इंसाफ मिलने तक नहीं करेंगे मृतक का अंतिम संस्कार

0
12
Manohar Lal Insa Murder Case

बाजाखाना-बरनाला रोड़ पर साध-संगत का धरना चौथे दिन भी रहा जारी (Manohar Lal Insa Murder Case)

सच कहूँ/सुरेन्द्रपाल भटिंडा/सलाबतपुरा। डेरा श्रद्धालु मनोहर लाल इन्सां की हत्या मामले को लेकर साध-संगत में भारी रोष बढ़ता जा रहा है। डेरा श्रद्धालुओं का धरना मंगलवार को चौथे दिन भी बाजाखाना-बरनाला रोड़ पर जारी रहा। मंगलवार को भी पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार करने में नाकाम रही। साध-संगत इस मांग पर अटल है कि जब तक हत्याकांड के दोषियों को पकड़ा नहीं जाता, तब तक उनका धरना यूं ही जारी रहेगा और मृतक देह का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। इंसाफ में हो रही देरी के कारण अन्य राज्यों के जिम्मेवारों ने भी पंजाब के जिम्मेवारों से संपर्क बनाना शुरू कर दिया है।

गौरतलब है कि 20 नवंबर को भगता भाई में अपनी दुकान पर बैठे डेरा श्रद्धालु मनोहर लाल इन्सां की दो अज्ञात लोगों ने गोलियां मारकर हत्या कर दी थी, जिसके बाद साध-संगत ने धरना लगाया था, जो निरंतर जारी है। मंगलवार को धरने को संबोधित करते हुए हरियाणा जिला समिति सदस्य वीना इन्सां ने कहा कि वे घटना वाले दिन ही सलाबतपुरा में पहुंचने के लिए थे, लेकिन स्थानीय जिम्मेवारों द्वारा उन्हें बार-बार रोका जा रहा था।

यदि जरूरत पड़ी तो पड़ोसी राज्य की साध-संगत भी धरने पर बैठेगी: जिम्मेवार

उन्होंने कहा कि उन्हें इस घटना से बेहद दुख पहुंचा है और आज वे यहां धरने में शामिल होने के लिए पहुंचे है। अब इस संघर्ष को अंजाम तक पहुंचाने के लिए यदि जरूरत पड़ी तो हरियाणा की साध-संगत भी धरने में पहुंचेगी। हरियाणा के जिम्मेवार सेवादार मीनू इन्सां ने कहा कि मनोहर लाल इन्सां की हत्या से डेरा सच्चा सौदा की समूह साध-संगत में भारी रोष है। उन्होंने कहा कि हर युग में सच्चाई के रास्ते पर चलने वालों को दबाने की कोशिश की गई लेकिन आखिर जीत हमेशा सच्चाई और अच्छाई की होती आई है। पंजाब जिला समिति सदस्य गुरजीत कौर इन्सां और गुरचरन कौर इन्सां ने कहा कि स्थानीय प्रशासन और सरकार को चाहिए कि पंजाब का माहौल बिगाड़ने वाले लोगों पर नकेल कसी जाए, उन्हें गिरफ्तार किया जाए।

उन्होंने कहा कि आज के दौर में भगता भाईका हत्याकांड जैसी जो घटनाएं घट रही हैं वे पंजाब की अमन-शांति को भंग करने की कोशिश है। उन्होंने कहा कि डेरा सच्चा सौदा के श्रद्धालु अमन-शांति में रहकर धरना दे रहे हैं और पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की शिक्षाओं पर चलते हुए मानवता भलाई के कार्य कर रहे हैं। साध -संगत अपने अधिकारों के लिए भी लड़ना जानती है इसीलिए पुलिस प्रशासन इस मामले की जितनी जल्दी हो सके जांच करे ताकि साध-संगत के सब्र का बांध टूटने से रोका जा सके और साध-संगत अपना कीमती समय मानवता भलाई के कार्यों में लगा सके। इसके अलावा पड़ोसी राज्य राजस्थान के 45 मैंबर हरचरन इन्सां, रणजीत इन्सां और एडवोकेट संपूर्ण इन्सां भी पहुंचे। इस मौके साध-संगत राजनीतिक विंग के शिन्द्रपाल इन्सां, परमजीत इन्सां नंगल, अवतार इन्सां, बलजिन्द्र इन्सां, 45 मैंबर जतिन्द्र महाशा, जसवीर इन्सां और सेवक इन्सां गोनियाना इत्यादि उपस्थित थे।

डेरा श्रद्धालुओं के हत्यारों को गिरफ्तार करे पुलिस: पवन गुप्ता

डेरा सच्चा सौदा के श्रद्धालु भगता भाई निवासी मनोहर लाल इन्सां की हत्या का इंसाफ लेने के लिए साध-संगत का धरना मंगलवार को चौथे दिन भी जारी रहा। आज के धरने में शिवसेना हिंदुस्तान के राष्ट्रीय प्रधान पवन गुप्ता सहित अन्य बड़ी संख्या में संगठन के पदाधिकारियों ने शिरकत की। संगठन के वक्ता ने अपने संबोधन में डेरा श्रद्धालुओं को विश्वास दिलाया कि वे इस दुख की घड़ी में साध-संगत के साथ खड़े हैं और जहां भी जरूरत पड़ेगी तो वे उनके संघर्ष में बढ़-चढ़कर शामिल होंगे। इस मौके उन्होंने पीड़ित परिवार के साथ भी मुलाकात की।

Pvan Gupta

इस मौके धरने को शिवसेना हिंदुस्तान के राष्टय प्रधान पवन गुप्ता ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि डेरा सच्चा सौदा के श्रद्धालुओं के साथ लगातार अन्याय हो रहा है, मनोहर लाल इन्सां की दिनदहाड़े गोलियां मारकर हत्या कर दी गई। गुप्ता ने कहा कि डेरा श्रद्धालुओं का क्या कसूर है कि वे इंसाफ के लिए सड़कों पर धरना लगाकर बैठे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह को प्रदेश की अमन-शांति की तरफ ध्यान देना चाहिए।

डीजीपी दिनकर गुप्ता के भटिंडा दौरे पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि डीजीपी को धरनास्थल पर पहुंचकर साध-संगत को यह भरोसा देना चाहिए था कि पुलिस टीमें हत्या मामले की गहराई व तेजी से जांच कर रही हैं, लेकिन अफसोस वे बिना कोई बातचीत किए वापिस चले गए। पवित्र श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की बेअदबी के मामले का जिक्र करते हुए शिवसेना नेता ने कहा कि भले ही वे खुद डेरा श्रद्धालु नहीं लेकिन जितना वे संस्था के बारे में जानते हैं तो दावे से कहा जा सकता है कि डेरा श्रद्धालु ऐसा करना तो दूर, वह सोच भी नहीं सकते। अपने संबोधन के दौरान उन्होंने राजनीतिक दलों का भी जिक्र करते हुए कहा कि चुनावों के दौरान नेता डेरा सच्चा सौदा में कई-कई घंटों तक बैठे रहते थे, लेकिन अब संकट की घड़ी में सब मुंह फेर गए। किसी भी नेता ने पीड़ित परिवार के साथ दुख सांझा नहीं किया।

उन्होंने पंजाब पुलिस से मांग की कि मनोहर लाल इन्सां के हत्या मामले की जांच कर दोषियों को गिरफ्तार किया जाए, ताकि परिवार सहित समूह साध-संगत को इंसाफ मिल सके। अपने संबोधन के अंत में उन्होंने डेरा सच्चा सौदा के मानवता भलाई के कार्यों के अलावा इस दुख की घड़ी में भी अमन-शान्ति कायम रखने की प्रशंसा की। इससे पूर्व शिव सेना हिंदुस्तान के राष्ट्रीय महामंत्री कृष्ण शर्मा ने कहा कि निर्दोष व समाजसेवी लोगों की हत्या करना जंगल राज की निशानी है। इस मौके शिव सेना हिंदुस्तान के संगठन मंत्री पंजाब सुशील जिन्दल, राम वचन राय पंजाब के उपाध्यक्ष, राजेश कौशिक प्रधान शिवसेना हिंदुस्तान विद्यार्थी सैल, चन्द्रकांत चड्ढा व्यापार सेना पंजाब नेता व पंजाब संगठन मंत्री चंद्र कालड़ा आदि उपस्थित थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।