हरियाणा

इस बार एप के माध्यम से मोबाइल पर देख सकेंगे ‘रत्नावली’

Ratnavali

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में 26 से होगा 4 दिवसीय रत्नावली महोत्सव का आगाज | Ratnavali

  • हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य होंगे उद्घाटन समारोह के मुख्यातिथि
  • 31 विधाओं में 3500 से अधिक कलाकार 6 मंचों पर देंगे अपनी प्रस्तुतियां
  • ‘हरियाणवी की पुकार, पराली न जलाएं अबकी बार’ होगा रत्नावली का थीम

सच कहूँ/देवीलाल बारना/कुरुक्षेत्र। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के युवा सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग के निदेशक प्रो. तेजेन्द्र शर्मा ने कहा है कि कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के युवा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग की तरफ से 4 दिवसीय राज्य स्तरीय उत्सव इस बार पॉलिथीन फ्री व डिजीटल होगा। (Ratnavali) रत्नावली के माध्यम से हरियाणा के जन-जन तक संदेश पहुंचे व लोग सोशल मीडिया के माध्यम से रत्नावली को देख सकें इसलिए इसे इस बार डिजीटल रूप में पेश किया जाएगा।

रत्नावली एप भी बनाई गई सभी लोग इस एप के माध्यम से रत्नावली को अपने मोबाईल पर देख सकेंगे। प्रदेश भर के दर्शक एवं कलाकार रत्नावली एप के साथ-साथ विभिन्न डिजीटल प्लेटफार्म पर इसे देख सकेंगे व सांझा कर सकेंगे। इसके साथ ही ‘हर हरियाणवी की पुकार पराली न जलाएं अबकी बार’सामाजिक संदेश रत्नावली का इस वर्ष का मुख्य थीम होगा।

वे सीनेट हॉल में बुधवार को युवा सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग की ओर से रत्नावली के आयोजन से सम्बन्धित प्रेसवार्ता में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने बताया कि रत्नावली की यात्रा 34वें वर्ष में प्रवेश कर गई है। इस वर्ष रत्नावली में 31 विधाओं में 3500 से अधिक कलाकार 6 अलग-अलग मंचों पर अपनी प्रस्तुतियां दे सकेंगे। रत्नावली 2018 के उद्घाटन अवसर पर हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य मुख्यातिथि होंगे।

55 से अधिक टीमों ने करवाया पंजीकरण | Ratnavali

रत्नावली महोत्सव 2018 को लेकर जोश व उत्साह युवा कलाकारों में देखा जा सकता है। गत वर्ष तक 38 से 40 टीमें प्रतियोगिता के लिए पंजीकरण करवाती थी अब तक 55 से अधिक टीमों ने विभिन्न प्रतियोगिताओं ने अपना पंजीकरण करवाया है। प्रो. तेजेन्द्र शर्मा ने कहा जिन टीमों ने आनलाइन पंजीकरण करवाया है वे ही प्रतियोगिता में भाग ले सकेंगी। प्रतियोगिता के लिए सभी टीमों ने अपना पंजीकरण करवा लिया है।

पर्यावरण को स्वच्छ रखने का संदेश देगी ग्रीन रत्नावली | Ratnavali

युवा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग के निदेशक प्रोफेसर तेजेंद्र शर्मा ने कहा कि इस बार रत्नावली पर्यावरण को स्वच्छ रखने का संदेश देगी। पराली नहीं जलाने का रत्नावली के जरिये दर्शकों को संदेश दिया जाएगा ताकि व संस्कृति से जुड़ने के साथ पर्यावरण को बचाने के प्रति भी सजग हों। रत्नावली में पॉलिथिन का कम से कम प्रयोग किया जाएगा। अतिथियों को इस बार पुष्प गुच्छ की जगह हरियाली का प्रतीक पौधा भेंट किया जाएगा ताकि समाज में एक नया संदेश जा सके।

राज्यपाल करेंगे एप को लांच | Ratnavali

युवा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग के निदेशक ने बताया कि रत्नावली नाम से एप कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कामर्स विभाग के छात्र ने तैयार किया है। हरियाणा के माननीय राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य एप को लांच करेंगे। करीब तीन एमबी के इस एप की डाउनलोडिंग शुरू हो चुकी है।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top