बरसात व ओलावृष्टि से गेहूं, सरसों व सब्जियों को नुकसान

0
Rain and Hail

मौसम। बेमौसमी बरसात व हवाओं से फिर बढ़ी ठिठुरन

(Rain and Hail)

  • अंडर पास व निचली बस्तियों व गलियों में भरा पानी

चंडीगढ़। मौसम विभाग द्वारा जारी किए गए अलर्ट को देखते हुए अन्नदाता के लिए मुश्किल बढ़ा दी है। मौसम विभाग के अनुसार 2 दिनों में हरियाणा में कई स्थापनों पर भारी बारिश व ओलावृष्टि की आशंका जातई है। शनिवार दोपहर को हरियाणा, राजस्थान, पंजाब में कुछ स्थानों पर अचानक हुई ओलावृष्टि ने किसानों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। इससे किसानों को भारी नुकसान हुआ है। खासकर गेहूं की अगेती फसल, सरसों की फसल में तो नुकसान ज्यादा दर्ज किया गया है। इस बेमौसमी बरसात से सब्जियों की फसल में भी हानि हुई है। शनिवार दोपहर को अचानक हुई बरसात और ओलावृष्टि ने किसानों को रूलाकर रख दिया है।

  • तेज हवाओं ने भी किसानों को सताने का काम किया है।
  • बरसात के कारण गेहूं की फसलों की जड़ों में पानी एकत्रित हो गया।
  • जड़े कमजोर होने के कारण तेज हवाओं ने फसल को जमीन पर बिछा दिया।
  • खेतों में किसानों को कस्सी लेकर पानी बचाव के लिए कार्य करते देखा गया।
  • अचानक हुई इस ओलावृष्टि ने किसानों सहित आमजन को परेशान करके रख दिया है।
  • इस बरसात व ओलावृष्टि से मौसम में अचानक परिवर्तन आ गया।
  • जिन लोगों ने गर्म कपड़े रख दिए थे। उन्हें दोबारा से गर्म कपड़े निकालने पड़े।

किसान बोले, गिरदावरी करवाकर दिया जाए मुआवजा

इस बरसात से गलियों सहित सड़कों पर कीचड़ ही कीचड़ नजर आ रहा है। निचली बस्तियों व गलियों में पानी भरा गया है। इससे वहां से गुजरने वाले राहगिरों सहित पैदल चलने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जींद रोड अंडर पास के नीचे 2 फीट पानी खड़ा हुआ है। इससे वाहन चालकों को बहुत ज्यादा परेशानी हो रही है। वहीं किसान सुमित और गांव बेलरखां के पंकज कुमार ने कहा कि इस बैमौसमी बरसात व ओलावृष्टि से किसानों को भारी नुकसान हुआ है। किसानों ने जिला प्रशासन से मांग की है कि गिरदावरी करवाकर उन्हें मुआवजा दिलवाया जाए।

फसलों को होगा नुकसान: डॉ. दिनेश

जिला कृषि अधिकारी डॉ. दिनेश शर्मा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस समय ओलावृष्टि से सभी फसलों को नुकसान है। इससे न केवल गेहूं, सरसों की फसल को नुकसान हुआ है बल्कि सब्जी की फसलों को भी नुकसान है। खासकर गेहूं की अगेती फसल को ज्यादा नुकसान होगा। इसी प्रकार सरसों की फसल को भी नुकसान होगा। अगर साथ ही तेज हवाएं चली तो नुकसान ज्यादा हो सकता है। इस बेमौसमी बरसात से किसानों का नुकसान ही हुआ है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।