राजस्थान

लोगों ने प्रदर्शन कर फूंका सरकार का पुतला

Villagers, Protest, Government, Raised, Strike

नदी की 9 बुर्जी पर बसे बिहारी मूल के लोगों को स्थायी आवासीय भूखंड देने की मांग

टिब्बी (सच कहूँ न्यूज)। टिब्बी के राठीखेड़ा ग्राम पंचायत में घग्घर नदी की बुर्जी नौ पर वर्षों से निवास करने वाले बिहार मूल के लोगों को स्थायी आवासीय भूखंड देने की मांग को लेकर तीन दिन से एसडीएम दफ्तर के समक्ष चल रहे बेमियादी धरने के दौरान भारत की जनवादी नौजवान सभा (डीवाईएफआई) और बिहार मूल के लोगों ने

एसडीएम दफ्तर से शव यात्रा शुरु कर मुख्य बाजार होते हुए पंचायत समिति दफ्तर के समक्ष पहुंचकर सरकार का पुतला फूंका और पंचायत समिति के मुख्य गेट पर चढ़कर जोरदार प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में डीवाईएफआई कार्यकर्ता और बिहार मूल के दर्जनों महिलाएं पुरुष शामिल हुए।

डीवाईएफआई प्रदेशाध्यक्ष जगजीत सिंह जग्गी ने कहा की वर्षों से घग्घर नदी की 9 बुर्जी पर बसे बिहार मूल के करीब 250परिवार निवास कर रहे है। उनके पास न खुद का स्थायी आवास और न बच्चों की पढ़ाई और न कोई अन्य सुविधाएं है। प्रशासन ने उनकी सुझ नहीं ली तो मंगलवार से पशुओं के साथ आंदोलन उग्र किया जाएगा।

इस अवसर माकपा तहसील सचिव हाकम खां मसानी, मनीष अरोड़ा, मोहन वशलाल लोहरा, राजाराम, छोटू, शिवनाथ, अरुण, रामकुमार, दीपक, प्रीतम, मनोज, हरिकृष्ण, दुखा साहनी, भुवन, निम्बू, करीकिया देवी, सुनीता, सुशीला, काला देवी, तारादेवी, रामप्यारी, चंद्रकलादेवी, बधिया देवी, फूल कुमारी, सहदेव साहनी सहित अनेक बिहार मूल की महिलाएं एवं पुरुष मौजूद थे।

नहीं पहुंचे अफसर, पुलिस को दिया ज्ञापन

घग्घर दिन की बुर्जी नौ पर वर्षों से निवास करने वाले बिहार मूल के लोगों द्वारा डीवाईएफआई के बैनर तले स्थायी आवासीय भूखंड देने की मांग को लेकर शनिवार को धरना-प्रदर्शन और पुतला फूंक के दौरान छुट्टी का दिन होने के कारण कोई भी अफसर मौके पर नहीं पहुंचा और प्रदर्शनकारियों को मौके पर मौजूद टिब्बी थाना के एएसआई नाथूलाल मीणा को विकास अधिकारी के नाम ज्ञापन सौंपा।

क्या बोले प्रदर्शनकारी

ज्ञापन के मुताबिक 40-50 वर्षों से घग्घर नदी की किनारे बुर्जी नौ पर करीब 250 परिवार निवास कर रहे है। इन लोगों को पास अपना स्थायी आवासीय भूखंड नहीं है। जिससे इन परिवारों के केंद्र व राज्य सरकार की योजना का लाभ नहीं मिल रहा है और न ही बिजली, पानी, शिक्षा आदि की व्यवस्था है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top