कुरुक्षेत्र में संघ प्रमुख मोहन भागवत, मिशन गोपनीय

0
Mohan Bhagwat

6 राज्यों के प्रतिनिधियों के साथ संघ प्रमुख ने संगठनात्मक गतिविधियों पर की चर्चा

  • बैठक स्थल के आस-पास परिंदा भी नहीं मार सकता पर, मीडिया से बनाई है पूर्णत: दूरी
  • हरियाणा के मुख्यरमंत्री मनोहर लाल आज मिलने आ सकते हैं संघ प्रमुख से

कुरुक्षेत्र(सच कहूँ ब्यूरो)। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत कुरुक्षेत्र में डेरा डाले हुए हैं। विद्या भारती के संस्कृति शिक्षा संस्थान के मुख्यालय में मोहन भागवत एसपीजी के सुरक्षा घेरे में हैं। इतनी कडी सुरक्षा है कि वहां परिंदा भी पर नही मार सकता। मीडिया को बिल्कुल दूर रखा गया है। सलारपुर रोड स्थित मुख्य द्वार से लेकर संस्कृति भवन तक आरएसएस के दंड धारक तैनात हैं और किसी को भी अंदर जाने की आज्ञा नही है। पता चला है कि संघ प्रमुख 12 दिसंबर की सांय को कुरुक्षेत्र पहुंचे थे और 17 दिसंबर को वापसी है।

सूत्रों का यह भी कहना है कि आज रविवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के भी संघ प्रमुख से मिलने आने की संभावना है। प्राप्त जानकारी के अनुसार संघ प्रमुख मोहन भागवत ने 6 राज्यों के संघ प्रतिनिधियों से चर्चा की और संघ की गतिविधियों की पूरी जानकारी प्राप्त की। सूत्रों का कहना है कि पहले दिन हरियाणा और दिल्ली के प्रतिनिधियों के साथ मोहन भागवत की बैठक हुई और दूसरे दिन शनिवार को पंजाब, हिमाचल, जम्मू-कश्मीर के प्रतिनिधियों से संघ प्रमुख ने संगठन के बारे में चर्चा की।

संघ की प्रतिनिधि सभा की बैठक के पश्वात यह दूसरी बडी बैठक

कुरुक्षेत्र में 2010 में आयोजित संघ की प्रतिनिधि सभा की बैठक के पश्वात यह दूसरी बडी बैठक है, जिसमें संघ का शीर्ष नेतृत्व कुरुक्षेत्र आया हुआ है। सूत्रों का कहना है कि लगभग एक सौ से अधिक संघ के बडे नेता इस वक्त कुरुक्षेत्र में प्रवास पर हैं। जिनके नाम पूर्णत: गोपनीय रखे जा रहे हैं। संघ के सूत्र इसे सामान्य बैठक बता रहे हैं लेकिन इस बैठक को लेकर अनेक प्रकार की चर्चाएं व्याप्त हैं।

सूत्रों का कहना है कि इस बैठक में हरियाणा की राजनीतिक प्परिस्थितियों पर भी संघ प्रमुख चर्चा करेंगें क्योंकि हरियाणा में भाजपा के 75 पार के दावे के बावजूद अकेले पूर्ण बहुमत प्राप्त नहंी कर सकी। संघ नेतृत्व ने इस बात को गंभीरता से लिया है। बताया जाता है कि मुख्यमंत्री की आज संघ प्रमुख से होने वाली बैठक में प्रदेश के राजनैतिक हालात पर चर्चा होने की संभावना है।

 

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।