अस्पतालों के खाली हुए ब्लड बैंकों को भरने में जुटे ‘ट्रयू ब्लड पंप’

0
True Blood Pump

सराहनीय प्रयास। लॉकडाऊन के कारण रक्तदान करने अस्पतालों में नहीं पहुंच रहे लोग (True Blood Pump )

  •  सेवादारों ने 5 अस्पतालों को किया 123 यूनिट रक्तदान

लुधियाना(सच कहूँ/रघबीर सिंह )। लॉकडाऊन के कारण घरों से बाहर न निकल सकने केकारण खाली हुए अस्पतालों केब्लड बैंकों को रक्तदान करने केलिए डेरा सच्चा सौदा केट्रयू ब्लड पंप आगे आए हैं। डेरा श्रद्धालुओं ने आज यहां के विभिन्न अस्पतालों में 123 यूनिट रक्तदान किया। (True Blood Pump) जिला लुधियाना केब्लाक लुधियाना, मुल्लांपुर, माणूके, सरींह, साहनेवाल व राएकोट के श्रद्धालु आज सुबह से ही यहां केफिरोजपुर रोड पर स्थित श्री रघुनाथ अस्पताल, माडल टाऊन के दीप अस्पताल, मॉडल टाऊन केगुरू नानक अस्पताल, सीऐमसी अस्पताल और डीएमसी अस्पताल में रक्तदान करने केलिए पहुंचना शुरू हो गए। रक्तदान करने वालों में बहनें भी शामिल थी।

विभिन्न अस्पतालों में मौजूद 45 मैंबर जसवीर सिंह इन्सां, 45 मैंबर यूथ सन्दीप इन्सां, 25 मैंबर पूर्ण चंद इन्सां, 15 मैंबर कुलदीप इन्सां, 15 मै. कृष्ण जुनेजा इन्सां, रक्तदान समिति केजगजीत इन्सां, रणजीत भंडारी इन्सां, ब्लाक भंगीदास कमल इन्सां लुधियाना, ब्लाक भंगीदास बलबीर सिंह इन्सां माणूके, 15 मैंबर कुलवंत इन्सां माणूके, रक्तदान समिति केजगदेव सिंह इन्सां ने बताया कि श्री रघुनाथ अस्पताल, दीप अस्पताल, गुरू नानक अस्पताल, सीऐमसी अस्पताल और डीऐमसी अस्पतालों ने रक्त की कमी से जूझ रहे अपने ब्लड बैंकों के बारे बताते हूए डेरा श्रद्धालुओं को रक्तदान करने की अपील की थी।

  • इस अवसर पर सत्यदेव इन्सां, सोनू इन्सां सहित ब्लाक मुल्लांपुर,
  • ब्लाक माणूके, ब्लाक साहनेवाल, ब्लाक सरींह,
  • ब्लाक राएकोट व ब्लाक लुधियाना के शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैलफेयर फोर्स विंग के भाई  व बहनें रक्तदान करने के लिए पहुंचे।

लॉकडाऊन में रक्तदान करना डेरा श्रद्धालुओं का प्रशंसनीय प्रयास : बीटीओ

श्री रघुनाथ चैरिटेबल अस्पताल के ब्लड ट्रांसफियूजन अधिकारी (बीटीओ) डॉ. साहिल बांसल और गुरू नानक अस्पताल केबीटीओ डा. शमशाद ने कहा कि कर्फ्यू के कारण लोग बाहर नहीं निकल रहे, जिस कारण अस्पतालों केब्लड बैंक रक्त की कमी से जूझ रहे हैं। उन्होंने लोगों से अपील की कि डेरा सच्चा सौदा केश्रद्धालुओं की तरह कर्फ्यू पास बना कर रक्तदान करने केलिए अपने नजदीक केब्लड बैंकों में जाएं। उन्होंने कहा कि रक्तदान से जहां दूसरों की कीमती जिंदगी बचती है वहीं रक्तदानी केलिए भी लाभकारी है।

खून केटैस्ट करने के दौरान रक्तदानी की बीमारी का भी पता चल जाता है, जिसका समय पर इलाज होने से रक्तदानी की अपनी जिंदगी भी बच जाती है। उन्होंने डेरा श्रद्धालुओं की सराहना करते हुए कहा कि इतनी बड़ी संखया में रक्तदान करना श्रद्धालुओं के बेमिसाल जज्बे को दिखाता है। डॉ. साहिल बांसल ने कहा कि डेरा श्रद्धालु जो यह पवित्र कार्य कर रहे हैं उससे बड़ा पुण्य संसार में कोई नहीं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।