यातायात पुलिसकर्मी की फेसबुक आईडी हैक, मांगे रुपए

0
Facebook-Id-Hack

हाल ही में पुलिसकर्मियों की आईडी हैक करने के दो मामले आए सामने

  • थाने में अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर परिवार सौंपा

हनुमानगढ़ (सच कहूँ न्यूज)। यातायात थाने के एक पुलिस कर्मी की फेसबुक आईडी हैक कर परिचितों को मैसेंजर पर मैसेज भेजकर रुपए मांगने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि हैकर ने पुलिस कर्मी के परिचित से दस हजार रुपए मांगे। बाद में जब उक्त परिचित ने पुलिसकर्मी को फोन किया तो आईडी हैक होने का पता चला। इसके बाद पुलिसकर्मी ने अपनी परिचितों को मैसेज कर उनके नाम से मैसेज भेजने वाले किसी भी व्यक्ति को रुपए नहीं देने का आग्रह किया। जानकारी के अनुसार टाउन स्थित यातायात थाने के हैड कांस्टेबल सुनील सिंवर ने बताया कि शनिवार रात्रि को उनके पास कुछ लोगों के फोन आए।

मैसेज कर रुपए मांगने का यह दूसरा मामला है

उन्होंने बताया कि उनके मोबाइल में मैसेंजर पर रुपए भेजने का मैसेज आया है। लेकिन जब उन्होंने अपने परिचितों को कहा कि उन्होंने किसी से रुपए नहीं मांगे तो माजरा समझ आया। अज्ञात जने की ओर से उनके नाम की आईडी पर उनकी फोटो लगा जरूरत बता परिचितों से रुपए मांगे गए थे। उन्होंने अज्ञात जने के खिलाफ मामला दर्ज करने के लिए पुलिस थाने में परिवाद भी सौंपा है। हाल ही में किसी पुलिस कर्मी की फेसबुक आईडी हैक कर मैसेंजर के जरिए परिचितों को मैसेज कर रुपए मांगने का यह दूसरा मामला है।

गत दिनों ही टाउन पुलिस थाने के हैड कांस्टेबल सरजीत सिंह की आईडी भी इसी हैकर ने इसी तरह हैक कर उनके परिचितों से रुपयों की मांग की थी। लेकिन उनके परिचित ने भी जब उन्हें फोन किया तो इस बात का पता चला। पुलिस ने नागरिकों से आह्वान किया है कि वे इस प्रकार किसी के मांगने पर रुपए आॅनलाइन न भेजें। पहले संबंधित को फोन कर इस बात का पता कर लें कि उन्होंने रुपए मांगे हैं या नहीं। इस तरह वे ठगी का शिकार होने से बच सकते हैं।

इस तरह बच सकते हैं ठगी से

पुलिस का कहना है कि असल में आईडी हैक नहीं हो रही, फेसबुक प्रोफाइल से संबंधित की फोटोज और प्रोफाइल डिटेल्स को कॉपी करके उसी नाम अथवा अन्य नाम से उसकी फोटोज को उसे करते हुए एक समानांतर नई आईडी बनाकर उसके फे्रंड लिस्ट के फ्रेंड्स को रिक्वेस्ट भेजी जा रही है। फिर मैसेंजर से उसके फ्रेंड्स को किसी अतिआवश्यक कार्यवश जरूरत पर गूगल पे-फोन पे से 5-10 हजार की राशि ट्रांसफर की मांग की जाती है।

न केवल पुलिसकर्मियों की बल्कि रेंडमली अलग-अलग समय में सभी तरह के प्रोफेशनल्स के साथ ऐसा हो रहा है। इससे बचने के लिए या तो संबंधित अपनी प्रोफाइल को लॉक कर दे, अन्यथा सेटिंग में जाकर पोस्ट एंड फोटो एंड फ्रेंड्स लिस्ट प्राइवेसी में शो आॅनली फॉर फ्रेंड्स कर दे। फ्रेंड लिस्ट में केवल जानकारों को ही एड करें। इस तरह से लोग जालसाजों की आॅनलाइन ठगी का शिकार होने से बचा जा सकता है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।