पराक्रम, शौर्य व कुशल शासक थे, राजा चंद्रगुप्त मौर्य

0
Chandragupta Maurya

महाराजा चन्द्रगुप्त मौर्य एक ऐसे शासक थे, जिन्होंने पूरे भारतवर्ष को एकीकृत करने में सफलता हासिल की। वह अपने काल के बहुत अच्छे शासकों में गिने जाते हैं। उन्होंने अपने अकेले के दम पर पूरे भारतवर्ष पर बहुत सालों तक शासन किया।

मौर्य साम्राज्य के संस्थापक चन्द्रगुप्त भारत के बहुत अच्छे शासक माने जाते हैं, महाराजा चन्द्रगुप्त मौर्य एक ऐसे शासक थे, जिन्होंने पूरे भारतवर्ष को एकीकृत करने में सफलता हासिल की। वह अपने काल के बहुत अच्छे शासकों में गिने जाते हैं। उन्होंने अपने अकेले के दम पर पूरे भारतवर्ष पर बहुत सालों तक शासन किया। इससे पहले भारत देश में छोटी-छोटी रियासतें और छोटे-छोटे शासक हुआ करते थे और उनमें एकजुटता नहीं थी। महाराजा चन्द्रगुप्त मौर्य ने अपने शासनकाल के दौरान कश्मीर से लेकर दक्षिण के डेक्कन, पूर्व के असम से पश्चिम के अफगानिस्तान तक अपने राज्य की सीमाएं स्थापित की। भारतवर्ष के अतिरिक्त महाराम चन्द्रगुप्त मौर्य ने आस-पास के देशों में भी शासन किया।

Chandragupta Maurya

उनका जीवन परिचय

चन्द्रगुप्त मौर्य का जन्म 340 बीसी पाटलीपुत्र, बिहार निवासी पिता नंदा व माता मुरा के घर हुआ था। उनका विवाह राजकुमारी दुर्धरा से हुआ। जिससे उनका एक बेटा बिंदुसार हुआ। महाराजा चन्द्रगुप्त मौर्य बचपन से ही तीव्र बुद्धि के मालिक थे। मगध के साम्राज्य में उनकी मुलाकात चाणक्य से हुई। इसके बाद से उनका जीवन बदल गया। चाणक्य ने उनके गुणों को पहचाना और तकशिला विद्यालय ले गए। जहां वे चंद्रगुप्त को पढ़ाया करते थे। चाणक्य ने चन्द्रगुप्त मौर्य को अपने अनुसार सारी शिक्षा दी, उन्हें ज्ञानी, बुद्धिमानी, समझदार महापुरुष बनाया, उन्हें एक शासक के सारे गुण सिखाये।

महाराजा चन्द्रगुप्त मौर्य का जैन धर्म की ओर झुकाव व मृत्यु

महाराजा चन्द्रगुप्त मौर्य जब 50 साल के हुए तब उनका झुकाव जैन धर्म की ओर हो गया। उनके गुरु जैन धर्म के थे जिनका नाम भद्रबाहु था। उन्होंने अपना समग्र साम्राज्य अपने बेटे बिंदुसार को सौंप दिया और कर्नाटक चले गए। जहां उन्होंने पांच सप्ताह तक बिना खाए-पिए ध्यान किया। जिसे संधारा कहते हैं। यह तब तक करते हैं जब तक आप मृत्यु को प्राप्त नहीं हो जाते। कर्नाटक के श्रावणबेला गोला नामक स्थान पर लगभग 300 ईसा पूर्व महाराजा चन्द्रगुप्त मौर्य अपने प्राण त्याग दिया।

क्या आप जानना चाहते हैं, ‘भूतकाल’ में जन्में वीर योद्धाओं, शूरवीरों, भारतीय प्राचीन संस्कृति, राजाओं के किले व धरोहर के बारे में तो हर मंगलवार को सच कहूँ जीके डॉज के ‘‘मैं इतिहास हूँ’’ कॉलम को पढ़ना न भूलें। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों के लिए ये कॉलम ज्ञान का भंडार साबित होगा। यदि आप इस कॉलम के बारे में अपनी प्रतिक्रिया या कुछ सुझाव देना चाहते हैं तो उठाइये अपना फोन और 9466927113 पर व्टसएप करें। आप अपने सुझाव sachkahoon के फेसबुक पेज पर भी दे सकते है।

                                                                                                              संकलन: राजमीत

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।