…ऐसे तो एक साल में खरीदा जाएगा बाजरा

0
Purchase-of-millet

धीमी खरीद प्रक्रिया से टूट रहा किसानों के सब्र का बांध

भिवानी (सच कहूँ ब्यूरो)। तोशाम अनाज मंडी में बाजरे की खरीद प्रक्रिया धीमी गति से चलने के कारण किसानों में रोष बना हुआ है। मंडी में हर रोज बाजरे की खरीद के लिए 65 से 70 किसानों के पास फोन में मैसेज आते हैं और ये किसान अपना बाजरा लेकर मंडी में पहुंचते हैं जबकि तोशाम अनाज मंडी में लगभग 12 हजार किसानों ने रजिस्ट्रेशन किया हुआ है। भारतीय किसान यूनियन के जिला उपप्रधान सुरेंद्र सिंह कालीरामण ने बताया कि तोशाम अनाज मंडी में 400 से अधिक किसानों का बाजरा प्रतिदिन खरीदा जाना चाहिए।

तोशाम में अनाज मंडी में जिस गति से बाजरा खरीदा जा रहा है उससे तो किसानों के बाजरे की खरीद एक साल में भी नहीं हो सकेगी। उन्होंने कहा कि सांसद धर्मवीर सिंह से भी बाजरा खरीद की रफ्तार में बढ़ोतरी करने की मांग की थी। उन्होंने कहा कि सरसों व गेहूं की तरह हर रोज तीन-चार गांव के बाजरे की खरीद की जानी चाहिए, ताकि किसानों को परेशानी ना हो और किसानों का बाजरा सरकारी खरीद से खरीदा जाए।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।