पिछले सालों से ज्यादा चला इस बार का हरियाणा बजट सत्र

0
Haryana Budget Session

41 घंटे 27 मिनट चले सत्र में 18 बिल हुए पास

(Haryana Budget Session)

  •  राज्यपाल अभिभाषण पर 555 मिनट, सामान्य बजट पर 559 मिनट चर्चा

  •  भाजपा विधायकों को 169 मिनट, जेजेपी विधायकों को 63 मिनट, कांग्रेस के 11 विधायकों ने 163 मिनट, 7 आजाद विधायकों को 40 मिनट का वक्त

अश्वनी चावला/सच कहूँ  चंडीगढ़। मनोहर लाल खट्टर के दूसरे कार्यकाल में सर्वाधिक लंबा बजट सत्र चला है। बजट सत्र के दौरान न सिर्फ पक्ष बल्कि विपक्ष के विधायकों को भी अपनी बात रखने के लिए पूरा वक्त मिला। सत्र के दौरान कुल 5 ध्यानाकर्षण प्रस्ताव भी लाये गए। बजट सत्र के दौरान कुल 10 बैठकें हुर्इं। इन बैठकों में 41 घंटे 27 मिनट का समय सत्र की कार्यवाही के लिए दिया गया। (Haryana Budget Session) बजट सत्र में महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण पर 4 दिन तक चर्चा हुई।

  • इस चर्चा में 16 भाजपा, 8 जेजेपी के विधायकों ने भाग लिया।
  • इस चर्चा में भाजपा विधायकों ने 169 मिनट, जेजेपी विधायकों ने 63 मिनट व मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने 101 मिनट का समय लिया।
  • सत्ता पक्ष के 24 विधायकों व मुख्यमंत्री ने 333 मिनट (5 घंटे 33 मिनट) का समय लिया।
  • राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के लिए कांग्रेस के 11 विधायकों ने 163 मिनट, सात आजाद विधायकों ने 40 मिनट, इनेलो विधायक ने 19 मिनट का समय लिया।
  • यानि विपक्ष व आजाद विधायकों को कुल 3 घंटे 42 मिनट का समय दिया गया।

विपक्ष सहित अन्य को कुल 4 घंटे 2 मिनट का समय दिया गया

बजट पर सामान्य चर्चा के लिए 559 मिनट (9 घंटे 19 मिनट) का समय दिया गया। इसमें भाजपा के 21 विधायकों ने 180 मिनट, जेजेपी के 5 विधायकों ने 69 मिनट एवं मुख्यमंत्री ने जवाब के लिए 72 मिनट का समय लिया। जबकि विपक्षी दल कांग्रेस के 12 विधायकों ने 184 मिनट व तीन आजाद विधायकों ने 32 मिनट एवं इनेलो विधायक ने 22 मिनट का समय लिया। विपक्ष सहित अन्य को कुल 4 घंटे 2 मिनट का समय दिया गया, जबकि भाजपा+जेजेपी के 26 विधायक व मुख्यमंत्री ने 5 घंटे 21 मिनट का समय लिया। सामान्य चर्चा के लिए कुल समय 559 मिनट का लिया गया यानी 9 घंटे 19 मिनट तक का समय विधानसभा कार्यवाही के लिए गया।

बजट सत्र में 24 फरवरी 2020 को 13 तारांकित, 17 अतारांकित, 24 अनुपूरक प्रश्न पूछे गए

25 फरवरी को 12 तारांकित, 15 अतारांकित व 20 अनुपूरक, 26 फरवरी को 10 तारांकित, 14 अतारांकित व 20 अनुपूरक, 27 फरवरी को 11 तारांकित, 12 अतारांकित, 23 अनुपूरक, 28 फरवरी को 11 तारांकित, 10 अतारांकित व 25 अनुपूरक, 2 मार्च को 12 तारांकित, 13 अतारांकित व 26 अनुपूरक, 3 मार्च को 8 तारांकित, 7 अतारांकित व 17 अनुपूरक, 4 मार्च को 16 तारांकित, 33 अनुपूरक प्रश्न विधायकों द्वारा पूछे गए। इस दिन 4 मार्च को कोई भी अतारांकित प्रश्न नहीं पूछा गया।

26 फरवरी 2020 को इनेलो व 27 फरवरी 2020 को कांग्रेस पार्टी के विधायकों ने वॉकआउट किया

कुल 180 प्रश्नों में 93 तारांकित, 88 अतारांकित व 188 अनुपूरक प्रश्न विधायकों द्वारा सत्र के दौरान जबकि 6 प्रश्न विधायकों के उस समय मौजूद न होने कारण नहीं पूछे गए। 20 व 28 फरवरी तथा 4 मार्च की बैठकों को छोड़कर सभी बैठकों में शून्य काल रखा गया। 26 फरवरी 2020 को इनेलो व 27 फरवरी 2020 को कांग्रेस पार्टी के विधायकों ने वॉकआउट किया। सत्र के दौरान 18 बिल पास किए गए।

सदन की बैठकों, जिनमें 20 जनवरी को 29 मिनट, 20 फरवरी को 20 मिनट, 24 फरवरी को 4 घंटे 31 मिनट, 25 फरवरी को 3 घंटे 36 मिनट, 26 फरवरी को 4 घंटे 27 मिनट, 27 फरवरी को 5 घंटे 43 मिनट, 28 फरवरी को 3 घंटे 44 मिनट, 2 मार्च को 4 घंटे 37 मिनट, 3 मार्च को 6 घंटे 23 मिनट 4 मार्च को सबसे अधिक समय 8 घंटे 4 मिनट तक सदन की कार्यवाही चली।

  • 2019-20 के विधानसभा बजट सत्र में 8 बैठकें की गई थी।
  • तब 31 घंटे 49 मिनट तक सदन की कार्यवाही चली थी।
  • इस बार गत वर्ष का रिकोर्ड तोड़ते हुए 10 बैठकें हुई और 41 घंटे 27 मिनट तक विधानसभा की कार्यवाही चली।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।