पंजाब

परिजनों ने 15 घंटे तक दूषित पानी में ही रखा शव

Relatives, Body, Contaminated, Water, Raised, Strike, Punjab

राजनेताआें व प्रशासनिक अधिकारियों को जमकर कोसा

अबोहर (सुधीर अरोड़ा)। पिछले लंबे अर्से से बदहाल सीवरेज प्रणाली का दंश झेल रहे स्थानीय आर्य नगर निवासी लोगों द्वारा इसके विरोध में दो बार धरना लगाए जाने के बावजूद भी उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ।

इतना ही नहीं एसडीएम द्वारा मोहल्लावासियों को शीघ्र समस्या हल करवाने का दिया आश्वासन भी काम नहीं आया। बुधवार को उस समय यहां के लोगों में शहर के राजनेताआें व प्रशासनिक अधिकारियों के प्रति गहरा रोष पाया गया,

जब एक व्यक्ति की दूषित पानी की वजह से बीमार होने के बाद कल रात्रि मौत हो गई व मृत्यु के पश्चात उसके परिजनों ने करीब 15 घंटों तक घर में घूसे दूषित पानी पर ही शव को रखा व उन्हें दूषित पानी से गुजर ही शमशान भूमि में ले जाया गया।

 र्इंटों के सहारा ऊंचा करके शव को रखना पड़ा

मृतक के परिजनों व उनका दुख बांटने आए मौहल्लावासियों ने राम नाम सत की बजाए राजनेताआें व प्रशासनिक अधिकारियों को कोसा। जानकारी के अनुसार आर्य नगरी गली नंबर 5 निवासी पप्पू पुत्र बाबूराम के परिजनों ने बताया कि उनके मौहल्ले में पिछले लंबे अर्सें से सीवरेज प्रणाली जाम होने के कारण दूषित पानी गलियों तथा घरों में पसरा रहता है

इसी दूषित पानी की वजह से पप्पू राम पिछले काफी समय से सांस तथा कई अन्य बीमारियों से जूझ रहा था कि गत रात्रि पप्पू राम की अचानक मौत हो गई। उन्होंंनें बताया कि घरों में पानी घुसा होने के कारण उनके घर में मृतक की देह रखना की भी जगह नहीं थी और उन्हें चारपाई को र्इंटों के सहारा ऊंचा करके शव को रखना पड़ा। जबकि घर में आने वाले लोगों के बैठने के लिए भी जगह नहीं थी।

उन्होंनें बताया कि पप्पू के अंतिम संस्कार के लिए पप्पूराम की अंतिम यात्रा को भी गली में लबालब भरे दूषित पानी से निकाल कर ले जाना पड़ा। उन्होंंनें कहा कि पप्पू राम को जीते जी तो क्या मरने के बाद भी दूषित पानी का ही सामना करना पड़ा,

इससे बड़ दुर्भाग्य क्या हो सकता है। मृतक की देह ले जा रहे परिजनों व मौहल्लावासियों ने राजनेताआें तथा प्रशासनिक अधिकारियों को जमकर कोसते हुए कहा कि आज तक सभी राजनेताआें ने केवल उन्हें झूठे आश्वासन ही दिए है, जबकि वास्तव में कुछ भी नहीं किया।

पहले दिया था संगीतमयी धरना

गौरतलब है कि गत दिनों यहांं के लोगों ने मौहल्ले में संगीतमयी धरना लगाने के बाद हनुमानगढ रोड ओवरब्रिज पर धरना लगाया व एसडीएम ने भी तुरंत मौहल्ले में मशीनें लगवाकर पानी निकासी करवाने व मौके देखने का आश्वासन देकर उन्हें टाल दिया था।

मौहल्लावासियों ने कहा कि न तो आज तक कोई अधिकारी मौका देखने आया और न ही उनकी समस्या का समाधान निकाला गया। उन्होंने बताया कि पप्पू राम के बेटे सन्नी की भी छह माह पूर्व बीमारी की वजह से मौत हो गई थी अभी उसके गम से परिवार उभरा भी नहीं था कि अब उसका पिता भी चल बसे।

दर्जनों घरों में आई दरारें

आर्य नगरी में बदहाल सीवरेज प्रणाली के कारण अक्सर पानी जमा रहने से दर्जनों घरों के लोगों में दरारें आ चुकी है और वे खस्ता हॉल हो चुके हैं। गत दिवस हुई भारी बारिश के बाद से उनके घरों में इतना पानी जमां हो गया है कि मोहल्ले के लोग दिन रात हाथ में बाल्टी लेकर घरों से पानी निकालने में लगे हुए हैं। दूषित पानी के कारण यहां के अधिकतर लोग घातक बीमारियों से जूझ रहे हैं।

आज तक इस मौहल्ले में किसी भी राजनेता ने जाना तो दूर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने भी गौर नहीं किया। कई वर्षो से भाजपा के पार्षद ठाकर दास सिवान को यहां के लोग चुनते आए हैं और ठाकर दास सिवान के भी अनेक बार प्रयास करने के बावजूद भी नगर परिषद् व सीवरेज बोर्ड ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।

यदि दूषित पानी के कारण व्यक्ति की मृत्यु की घटना हुई तो यह बहुत चिंतनीय विषय है व उस इस घटना का बहुत दुख है। उन्हें जैसे ही इस घटना का समाचार मिला तो उन्होंनें तुरंत सीवरेज बोर्ड के एसडीओ व नगर परिषद् ईओ को आदेश दिए हैं

कि तुरंत आर्य नगरी में जमा पानी की निकासी करवाएं, उसके बाद इस समस्या के स्थाई समाधान के लिए अधिकारियों से बैठक की जाएगी। इतना ही नहीं शीघ्र ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस क्षेत्र में मेडीकल जांच लोगों की जांच करवाई जाएगी।
एसडीएम पूनम सिंह

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top

Lok Sabha Election 2019