नशों को जिसने हाथ लगाया, मौत को अपने पास बुलाया…

0
The man who took the hand, called death to him ...

विश्व तंबाकू निषेध दिवस। नशों के खिलाफ पांच गांवों में यूथ वीरांगनाओं ने निकाली जागरूकता रैली

  •  सरपंचों ने लिखित में लिया संकल्प, गांवों में नशे को करवाएंगे बंद

सच कहूँ/सुनील वर्मा सरसा। विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर यूथ वीरांगना संस्था की कल्याण नगर इकाई द्वारा शुक्रवार को एक साथ पांच गांवों में नशो के खिलाफ जागरूकता रैलियां निकाली। गांव चाडीवाल में सरपंच सलेन्द्र बेनीवाल, साहुवाला द्वितीय में सरपंच अनिता रानी, कैरांवाली में सरपंच धर्मवीर, नारायण खेड़ा में सरपंच योगेश देवी व नहराना में सरपंच सतपाल ने अपने-अपने गांव में रैलियों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इसके बाद यूथ वीरांगनाओं ने गांवों की गली-गली, मोहल्ले-मोहल्ले में पहुंचकर लोगों को नशा जैसी सामाजिक बुराई के खिलाफ जागरूक किया। रैली के दौरान महिलाओं ने अपने हाथों में जागरूकता के संदेश लिखे हुए बैनर तख्तियां उठाई हुई थी।

इस मौके पर यूथ वीरांगनाओं ने ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि नशा हमारे देश की युवा पीढ़ी को तबाही की ओर ले जा रहा है। नशे के व्यापारी युवा पीढ़ी को लालच देकर इस और आकर्षित करते हैं, इसके बाद वे नशे के आदि हो जाते हैं।

उन्होंने आह्वान किया कि युवा नशे को त्यागकर खेलों की तरफ ध्यान बढ़ाएं इससे वे नशों से दूर होंगे तथा उनका शारीरिक विकास भी होगा। उन्होंने कहा कि उनकी संस्था द्वारा नशामुक्ति कैंप लगाए जाते हैं तथा नशा छोड़ने वाले इन कैंपों का लाभ उठा सकते हैं। इस मौके पर सरपंचों ने गांव में इस तरह की जागरूकता रैली निकालने पर यूथ वीरांगनाओं का आभार जताया तथा गांव में नशा खत्म करने के लिए लिखित में संकल्प लिया। इस अवसर पर यूथ वीरांगना संस्था की सदस्य कौशल, रीटा, नीरू, प्रियंका, सरिता, परविन्द्र कौर, गुरप्रीत, सहज कौर, मंजीत रानी, हीना, रचना, रीना के अलावा मा. सतीश, जसमेर, यादविंदर, प्रवीन व बनारसीदास भी मौजूद थे।

  • तपती धूप में गली-गली जाकर बताए नशों के दुष्प्रभाव

एक तरफ जहां भीष्म गर्मी में लोग घरों से बाहर निकलने से परहेज कर रहे हैं वहीं 45 डिग्री तापमान में यूथ वीरांगना संस्था की सैंकड़ों महिलाएं गांव-गांव जाकर नशे के खिलाफ ग्रामीणों को जागरूक कर रही थी। रैली के दौरान महिलाओं ने अपने हाथों में जागरूकता के संदेश लिखे हुए बैनर तख्तियां हाथों में उठाई हुई थी। तख्तियों पर ‘नशे को जड़ से मिटाएंगे-नशा मुक्त समाज बनाएंगे’,‘नशे की बढ़ती आदत-बिमारियों को देती दावत’, ‘नशे की मार करे लाचार-इज्जत खत्म शरीर बेकार’, ‘तम्बाकू का खाना- मौत को पास बुलाना’, ‘तम्बाकू खाना छोडो-जीवन से नाता जोड़ो’, ‘गुटखा, पान, तम्बाकू खाना-जीवन को यूहीं गवाना’, ‘देश को विकसित बनाना है- तो युवाओ को नशे की लत से छुड़ाना है’, ‘हम सबका यही है सपना-नशा मुक्त हो भारत अपना’ इत्यादि स्लोगनों से लोगों को जागरुक किया।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।