केंद्र सरकार के मूंग और मूंगफली खरीदने के निर्णय से किसानों के चेहरे खिले

0
Zero Budget Farming

झुंझुनू। राजस्थान में केंद्र सरकार के किसानों से मूंग और मूंगफली खरीदने के निर्णय से किसानों के चेहरे खिल उठे हैं। सहकारी समिति झुंझुनू के डिप्टी रजिस्ट्रार संदीप शर्मा ने आज बताया कि केंद्र सरकार ने फिलहाल मूंग एवं मूंगफली का समर्थन मूल्य तय किया है। सात हजार 196 रूपये प्रति क्विंटल की दर से मूंग एवं पांच हजार 275 रूपये प्रति क्विंटल की दर से मूंगफली खरीदी जाएगी। हालांकि अभी उनको लिखित में कोई आदेश नहीं मिला है, आदेश आते ही वह इसकी तैयारी शुरू कर देंगे। किसानों की मांग पर सरकार को बाजरे के समर्थन मूल्य तय करने के लिए भी लिखा जाएगा। पिछले वर्षों में खरीफ सीजन से जिले में किसानों का रुझान मूंगफली की बुवाई के प्रति बढ़ा है। मूंग का उत्पादन तो जिले में पहले से ही अच्छा होता है। झुंझुनू जिले में सबसे ज्यादा बुवाई बाजरे की फसल की होती है।

Food, Chain, Contaminated, India

किसानों का कहना है कि सरकार को बाजरे का समर्थन मूल्य भी तय करना चाहिए। क्योंकि अभी बाजरे का समर्थन मूल्य तय नहीं किया गया है। जबकि इस बार बाजरे की फसल बहुत अच्छी होने की संभावना जताई जा रही है। कृषि विभाग के अधिकारियों के अनुसार इस बार जिले में मूंग की बुवाई का लक्ष्य 55 हजार हैक्टेयर का रखा गया था। लेकिन बरसात के अभाव में महज 30 हजार हैक्टेयर भूमि पर ही मूंग की बुवाई हो सकी है। वहीं मूंगफली का लक्ष्य महज आठ हजार हैक्टेयर की बुवाई का रखा गया था, लेकिन बुवाई 17 हजार 500 हैक्टेयर में हुई है। इसके अलावा बाजरा एक लाख 80 हजार हैक्टेयर, चंवला 20 हजार हैक्टेयर में, कपास 16 हजार 200 हैक्टेयर में, ग्वार 44 हजार हैक्टेयर में फसल की बुवाई की गई है।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।