13वें दक्षिण एशियाई महोत्सव में दिखेगा कला और संस्कृतियों का संगम

0
South Asian Festival - Sach Kahoon

आयोजन। 9 देशों के 600 से अधिक युवा कलाकारों का ठेठ हरियाणवी अंदाज में होगा स्वागत

  •  24 से 28 फरवरी के बीच कलाकार दिखाएंगे प्रतिभा

सच कहूँ, देवीलाल बारना कुरुक्षेत्र। कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में 24 से 28 फरवरी के बीच होने वाले 13वें दक्षिण एशियाई युवा महोत्सव 15 वर्षों की यात्रा के बाद कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय पहुंच गया है। 9 देशों से आने वाले युवा कलाकारों को हरियाणा की मिट्टी व मेहमान नवाजी पूरे दक्षिण एशियाई देशों में पहुंचे। इसके लिए कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय की ओर से विशेष तैयारियां की जा रही हैं। (South Asian Festival) युवा सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग के निदेशक प्रो. तेजेन्द्र शर्मा ने कहा है कि इस अंतराष्ट्रीय महोत्सव में 9 प्रतियोगिताओं में 600 से अधिक युवा कलाकार भाग लेंगे। महोत्सव में भारत व उसके बाहर बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका, भूटान, अफगानिस्तान सहित 9 देशों के लगभग 27 विश्वविद्यालयों से प्रतिभागी प्रतिभागिता करने वाले हैं। इन कलाकारों का स्वागत हरियाणवी अंदाज में हो, इसके लिए विशेष तैयारियां की जा रही है।

उनके आगमन से लेकर विदाई तक का हर लम्हा कलाकारों व टीम इंचार्ज के लिए यादगार बने, इसके लिए विशेष इंतजाम किए जा रहे हैं। पहली बार कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में पहुंच रहे इन अन्तराष्ट्रीय कलाकारों के रहने व खाने में क्या-क्या परोसा जाए, इसके लिए विश्वविद्यालय की ओर से एक टीम गठित की गई है। उसी के नेतृत्व में ही यह तय किया जाएगा कि मेहमानों के लिए विश्वविद्यालय में किस तरह की व्यवस्था होगी।

इन जगहों पर हो चुके महोत्सव

पहला दक्षिणी एशियाई महोत्सव वर्ष 2006 में जम्मू यूनिवर्सिटी, वर्ष 2007 में एसएनडीटी महिला विश्वविद्यालय मुम्बई, वर्ष 2008 में काठमांडू यूनिवर्सिटी नेपाल, वर्ष 2009 में पंजाब यूनिवर्सिटी चण्डीगढ़, वर्ष 2010 में बीआरएसी यूनिवर्सिटी ढाका बांग्लादेश, वर्ष 2013 में पंजाब यूनिवर्सिटी पटियाला, वर्ष 2015 में मोहनलाल सुखाडिय़ा यूनिवर्सिटी उदयपुर, वर्ष 2016 में बाबा साहेब भीमराब अम्बेडकर यूनिवर्सिटी लखनऊ, वर्ष 2017 में देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी इंदौर, वर्ष 2018 में गणपति यूनिवर्सिटी गुजरात व वर्ष 2019 में पंडित रविशंकर शुक्ला यूनिवर्सिटी रायपुर में आयोजित किया गया था। वर्ष 2020 में इसका आयोजन कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में किया जा रहा है।

इन युनिवर्सिटियों के प्रतिभागी होंगे शामिल

तेजेंद्र शर्मा ने बताया कि इस प्रतियोगिता में अक्का महादेवी महिला विश्वविद्यालय कर्नाटका, बनस्थली विद्यापीठ राजस्थान, भारथीदशन यूनिवर्सिटी तिरूचिरापल्ली तमिलनाडु, भारती विद्यापीठ यूनिवर्सिटी पुणे महाराष्ट्र, चण्डीगढ़ यूनिवर्सिटी, चौधरी बंसीलाल यूनिवर्सिटी भिवानी, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय मध्यप्रदेश, गांधीग्राम रूरल यूनिवर्सिटी तमिलनाडु, गुवाहाटी यूनिवर्सिर्टी, गुलबर्गा यूनिवर्सिटी कर्नाटका, गुरू जम्भेश्वर यूनिवर्सिटी आॅफ साइंस एंड टैक्रोलॉजी हिसार, गुरू नानक देव यूनिवर्सिटी अमृतसर, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, एलएन मिथला यूनिवर्सिटी, महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी कोट्टयम केरला, पंजाब विश्वविद्यालय चण्डीगढ़, पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला, रबिन्द्रनाथ टैगोर यूनिवर्सिटी भोपाल, संत गाडगे बाबा अमरावती यूनिवर्सिटी अमरावती, सावित्रीबाई फुले पुणे यूनिवर्सिटी, शिवाजी यूनिवर्सिटी कोल्हापुर, एसएनडीटी वूमेनस यूनिवर्सिटी मुम्बई, श्रीपदमावती महिला विश्वविद्यालय तिरूपति आन्ध्राप्रदेश, स्वामी रामानन्द तीर्थ मराठवाड़ा नानदेड महाराष्ट्र, यूनिवर्सिटी आॅफ जम्मू, यूनिवर्सिटी आॅफ केरला व यूनिवर्सिटी आॅफ मुम्बई के प्रतिभागी शामिल हैं।

तैयारियों के लिए समितियां गठित

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय ने इस महोत्सव के भव्य आयोजन के लिए सात कमेटियों का गठन किया है। पंजीकरण कमेटी के लिए कॉमर्स विभाग की शिक्षिका डॉ. रश्मि, बोर्डिंग व लॉजिग के लिए प्रो. मंजुषा शर्मा, डेकोरेशन कमेटी के लिए प्रो. रामविरंजन, ट्रांसपोर्टेशन कमेटी के लिए डॉ. विवेक चावला, मीडिया प्रबंधन के लिए प्रो. तेजेन्द्र शर्मा, कैटरिंग व रिफ्रेंशमेंट के लिए डॉ. अनिल मित्तल व न्यूज लैटर के लिए जनसंचार एवं मीडिया प्रौद्योगिकी संस्थान की निदेशक प्रो. बिन्दु शर्मा को संयोजक बनाया गया है।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।