इसीलिए 60 से 50 ओवर के होने लगे क्रिकेट मैच

0
That's why cricket matches started from 60 to 50 overs
क्रिकेट विश्व कप के बारे में कौन नहीं जानता। पूरे विश्व में फुटबॉल विश्व कप और ओलंपिक के बाद यह सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली प्रतियोगिता है। लेकिन क्या आप जानते हैं यह कब शुरू हुआ। कौन था सबसे पहला विजेता? क्यों नहीं खेल पाई थी दक्षिण अफ्रीका की टीम अपने पहले तीन विश्व कप? आइये जानते हैं क्रिकेट विश्व कप जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण तथ्य: पहले क्रिकेट विश्व कप का आयोजन पहला अंतर्राष्ट्रीय एक दिवसीय मैच खेले जाने के 4 साल बाद किया गया था। पहला विश्व कप टूनार्मेंट प्रूडेंशियल इंश्योरेंस कंपनी द्वारा प्रायोजित किया गया था। इसलिए आधिकारिक तौर पर इसे प्रूडेंशियल कप भी कहा जाता है। पहले विश्व कप के सभी मैच 60 ओवर के थे। सभी टीमों के खिलाड़ियों ने टेस्ट मैच की तरह ही पारंपरिक सफेद कपड़े पहन कर और लाल गेंद से सभी मैच खेले थे।
पहले तीन विश्व कप इंग्लैंड में ही खेले गए थे। जिनमें 1975 और 1979 के विश्व कप विजेता वेस्ट इंडीज की टीम थी। 1983 का विश्व कप भारतीय टीम ने जीता था। ये तीनों ही विश्व कप इंग्लैंड में खेले गए थे। इन तीनों विश्व कप के बाद रोटेशन प्रणाली लायी गयी। क्रिकेट विश्व कप की मेजबानी करने के इच्छुक राष्ट्रों द्वारा की गई बोलियों की जांच करने के बाद वोटिंग की जाती है। जिसके विजेता को विश्व कप की मेजबानी करने का अवसर दिया जाता है। अब तक सबसे ज्यादा चार बार (1975, 1979, 1983, 1999, 2019 में ) इंग्लैंड ने विश्व कप की मेजबानी की है। 1987 में जब विश्व कप की मेजबानी भारत कर रहा था तब 60 ओवर के मैच में शाम के समय रौशनी कम होने के आसार थे। इसी लिए आईसीसी ने सभी मैच 60 ओवर से घटा कर 50 ओवर के कर दिए थे। तब से आज तक सभी अंतर्राष्ट्रीय एक दिवसीय मैच 50 ओवर के ही होते हैं। ऑस्ट्रेलिया सबसे ज्यादा पांच बार क्रिकेट विश्व कप जीतने वाला देश है। 1975 के विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका की टीम भाग नहीं ले सकी थी। क्योंकि उन्हीं के देश में चलते रंगभेद नीति के कारण उनके अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलने पर प्रतिबंध लग गया था। 1992 क्रिकेट विश्व कप में कई नई चीजें हुई। दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद नीति का अंत होने के बाद इस देश से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलने पर लगा प्रतिबंध हट गया और इस देश ने इस विश्व कप में हिस्सा लिया। इसके साथ ही सभी टीमों ने रंगीन कपड़े पहने, सफेद गेंद का प्रयोग किया गया और दिन-रात के मैच खेलने शुरू हुए।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।