राजस्थान

अब आधे घंटे में मिलेगी टीबी रिपोर्ट

TB, Report, Available, patients, samples, Rajasthan

सीबी नॉट मशीन से 485 मरीजों की जांच

  • पहले दो महीने तक का भी करना पड़ता था इंतजार
  • दवा कितनी असरकारक इसकी भी मिल रही रिपोर्ट

श्रीगंगानगर (सच कहूँ न्यूज)। टीबी मरीजों के लिए सीबी नॉट मशीन मुफीद साबित हो रही है। खासकर जिन्हें टीबी रोग की आशंका होती है, उनके लिए यह मशीन फायदेमंद रही है, क्योंकि अब उन्हें दो माह तक जांच रिपोर्ट का इंतजार नहीं करना पड़ता बल्कि आधे घंटे ही रिपोर्ट मिल जाती है। वहीं मरीज के दो से अढ़ाई हजार रुपए भी बच रहे हैं, क्योंकि स्वास्थ्य विभाग नि:शुल्क जांच कर रहा है। विभाग को सैंपल पहले जोधपुर भेजने पड़ते थे, लेकिन अब जिला मुख्यालय पर ही जांच हो रही है।

पहले जोधपुर भेजते थे सैंपल

सीएमएचओ डॉ. नरेश बंसल ने बताया कि सीबी नॉट मशीन स्वास्थ्य क्षेत्र में वरदान साबित हुई है। मशीन के द्वारा टीबी का तो पता चलता ही है, साथ ही मरीज को दी जाने वाली दवा के असर का भी पता चल जाता है। पहले सैंपल जोधपुर लैब में भेजा जाता था जिसकी रिपोर्ट आने में ही दो से तीन माह लग जाते, लेकिन अब इस मशीन से आधे घण्टे में रिपोर्ट दी जा रही है।

एक दिन में 15 सैंपलों की होगी जांच

जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. गुंजन खुंगर के मुताबिक मशीन से एक साथ चार मरीजों के सैंपल जांच कर सकते हैं और एक दिन में 15 सैंपल जांचें जा सकते हैं। निजी लैब में यह जांच करवाने पर मरीज को दो से अढ़ाई हजार रुपए खर्च करने पड़ते हैं, जबकि स्वास्थ्य विभाग की ओर से टीबी क्लीनिक में जांच नि:शुल्क की जा रही है। इस मशीन से गंभीर प्रकार की टीबी, एमडीआर, संभावित क्षय रोगियों की जांच की जा रही है, जिसमें स्पुटम नेगेटिव, एचआईवी के मरीज व चाइल्ड केस आदि सभी तरह के संभावित टीबी मरीजों की जांच शामिल है।

लैब संचालकों से ये अपील

पीपीएम समन्वयक गरिमा परिहार के अनुसार सभी बीसीएमओ को पाबंद किया गया है कि वे संभावित टीबी मरीज की जांच जिला टीबी क्लीनिक से करवाएं ताकि सही व समय पर जांच रिपोर्ट दी जा सके। वहीं निजी चिकित्सालयों व लैब संचालकों से अपील की गई है कि वे संभावित टीबी मरीजों की जांच टीबी क्लीनिक से करवाएं।

अब तक 485 मरीजों को जांच की

सीओआईईसी विनोद बिश्नोई ने बताया कि मशीन गत वर्ष 2016 में स्थापित की गई और इसके बाद से यह लाभ आमजन को मिलने लगा। अब तक सीबीनॉट के जरिए 485 लोगों की जांच की जा चुकी है, जिनमें 96 टीबी मरीज मिले।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top

Lok Sabha Election 2019