सावधान! लक्षणों को बदल रहा है कोराना

0

कोरोना ने पूरी दुनिया में कहर भरपा रखा है। पहले जहां इसके कुछ गिने चुने लक्षण बताए जा रहे थे, लेकिन इनमें बड़ा इजाफा दर्ज किया जा रहा है। बीते 4 महीने में ही कोरोना 15 से ज्यादा नए लक्षण सामने आए हैं। इसलिए हमें कोरोना को हराने के लिए और ज्यादा सचेत और सतर्क होने की आवश्यकता है। इटली और स्पेन में इसके और भी अलग लक्षण मालूम हुए हैं। वैसे तो हम सभी यह जानते हैं कि कोरोना वायरस के लक्षण फ्लू से मिलते जुलते हैं।

कोरोना के आम लक्षण नहीं दिखाई दे रहे

संक्रमण के होने के फलस्वरूप बुखार, जुखाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती है। पर क्या आप जानते हैं कि ऐसे मामलों की संख्या बढ़ रही है जिसमें कोरोना के वे आम लक्षण नहीं दिखाई दे रहे हैं। आमतौर पर चिकनपॉक्स में पैरों पर दिखने वाला जामुनी रंग का घाव भी कोरोना संक्रमण का एक लक्षण हो सकता है। इन दोनों देशों में ऐसे लोग भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए, जिनके अंगूठे में गहरे घाव थे। पैरों में घाव के मामलों का कनेक्शन कोरोनावायरस से है यह दावा इटली और स्पेन के विशेषज्ञों ने किया है। सबसे ज्यादा ऐसे मामले बच्चों में मिले हैं।

पिछले 4 महीने के अंदर कोरोना के 15 से ज्यादा नए लक्षण देखे गए हैं। हमें कोरोना से और ज्यादा सचेत होने की जरूरत है। इटली और स्पेन में इसके और भी अलग लक्षण मालूम हुए हैं आइए जानते हैं उन लक्षणों के बारे में :-

जैसे बुखार, मांसपेशियों में अकड़न और सांस में तकलीफ। संक्रमण की शुरूआत में ही ऐसे बदलाव दिखाई दे रहे हैं जिसे लोग संक्रमण का इशारा नहीं समझ पा रहे जैसे गंध महसूस न कर पाना, सिरदर्द, बोलते-बोलते सुध-बुध खो देना, पेट में दर्द और दिमाग में खून के थक्के जमना। एक्सपर्ट से जानिए, संक्रमण के कौन से लक्षण दिखने पर अलर्ट हो जाना चाहिए।

1. पहले पैर में गहरे रंग का घाव फिर शरीर में खुजली और मांसपेशियों में अकड़न।

इटली में कोरोना के संक्रमण की शुरूआत में 13 साल के बच्चे का मामला सामने आया। उसके पैरों में गहरे रंग का घाव था जैसे किसी कीड़े के या मकड़ी के काटने का निशान हो। घाव बढ़ने पर उसे 8 मार्च को अस्पताल ले जाया गया। दो दिन बाद उस बच्चे में बुखार, सिरदर्द, शरीर में खुजली, घाव पर जलन, मांसपेशियों में दर्द के लक्षण दिखे।
जब बच्चे के इन लक्षणों पर अध्ययन किया गया तो पाया गया कि हॉस्पिटल में हर पांच में एक बच्चे की चमड़ी पर अलग किस्म के बदलाव दिख रहे हैं। काउंसिल की रिपोर्ट में सामने आया कि ऐसे मामले इटली, स्पेन और फ्रांस में कोरोना से संक्रमित मरीजों में मिले हैं, इनमें सबसे ज्यादा संख्या बच्चों की है।

2. फूड पॉइजनिंग

चीन से मिले आंकड़ों के अनुसार 50 फीसदी कोरोना मरीजों में पेट में दर्द, उल्टी और डायरिया जैसे लक्षण देखे गए। अमेरिकन जर्नल आॅफ गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी में प्रकाशित शोध के मुताबिक, चीन के हुबेई प्रांत में कोरोना के 204 मरीजों पर हुई रिसर्च में इसकी पुष्टि हुई है।

3. गंध और स्वाद न पहचान पाना शुरूआती लक्षण

गंध या खुशबू को सूंघ न पाना और स्वाद महसूस न होना भी कोरोना संक्रमण का शुरूआती लक्षण है। ब्रिटिश रायनोलॉजिकल सोसायटी के प्रेसिडेंट निर्मल कुमार के मुताबिक, दक्षिण कोरिया, चीन और इटली में कोरोना पीड़ितों में इसकी पुष्टि हुई है। रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिण कोरिया में कोरोना से पीड़ित 30 फीसदी लोगों ने गंध को न सूंघ पाना सबसे प्रमुख लक्षण था। बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ के अलावा यह भी एक अहम लक्षण है, जो संक्रमण पहचानने में मददगार साबित हो सकता है।

4. बोलते-बोलते सुध-बुध खोना:

इटली की ब्रेसिका यूनिवर्सिटी के हॉस्पिटल से जुड़े डॉ. एलेसेंड्रो पेडोवानी के मुताबिक, कोरोना के मरीजों में ऐसा ही बदलाव इटली और दुनिया के दूसरे हिस्से डॉक्टरों ने भी नोटिस किया। इसमें ब्रेन स्ट्रोक, दिमागी दौरे, एन्सेफेलाइटिस के लक्षण, दिमाग में खून के थक्के जमना, सुन्न हो जाना जैसी स्थिति शामिल हैं। कुछ मामलों में कोरोना का मरीज बुखार और सांस में तकलीफ जैसे लक्षण दिखने से पहले ही बेसुध हो जाता है।
अब पेट में दर्द महसूस होना, गंध या स्वाद का पता न चलना, लगातार सिरदर्द महसूस, पैर में जामुनी रंग का घाव होने पर इसे नजरअंदाज न करें और डॉक्टरी सलाह लें।
अगर आपको ऊपर लिखे कोई लक्षणों में से एक भी लक्षण दिखे तो कृपया करके डॉक्टर से संपर्क करें या अपने हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करें।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।