निर्यात बढ़ाने के लिए वैश्विक बाजार का अध्ययन जरुरी: फियो

0

 केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल के साथ बैठक में कहा (Export)

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारतीय निर्यातक संघ (फियो) ने निर्यात बढ़ाने के लिए (Export)  वैश्विक बाजार का अध्ययन करने पर जोर देते हुए शनिवार को कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कपड़ा, चमड़ा, हस्तशिल्प, कालीन, समुद्री और कृषि उत्पादों की हिस्सेदारी घट रही है। फियो के महानिदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ.अजय सहाय ने केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल के साथ एक बैठक में कहा कि नयी विदेश व्यापार नीति के तहत भारतीय निर्यात के साथ-साथ वैश्विक आयात के रुझानों का भी अध्ययन किया जाना चाहिए क्योंकि भारत मुख्?यत: कपड़ा, चमड़ा, हस्तशिल्?प, कालीन, समुद्री और कृषि उत्पादों का निर्यात कर रहा है।

उन्होंने कहा कि ये रोजगार की दृष्टि से महत्वपूर्ण तो हैं, लेकिन वैश्विक निर्यात में इनकी हिस्सेदारी घट रही है। उन्होंने कहा कि वैश्विक निर्यात में शीर्ष पांच उत्पादों इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद, पेट्रोलियम उत्?पाद, मशीनरी, आटोमोबाइल और प्लास्टिक की वस्तुओं की हिस्सेदारी 50 प्रतिशत से अधिक है जबकि भारतीय निर्यात में इनकी हिस्सेदारी 33 प्रतिशत से कम है। डॉ़ सहाय ने कहा कि इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद, पेट्रोलियम उत्?पाद, मशीनरी, आटोमोबाइल और प्लास्टिक उत्पादों में भारत की वैश्विक हिस्सेदारी कुल मिलाकर सिर्फ लगभग एक प्रतिशत ही है। उन्होंने कहा कि नयी विदेश व्यापार नीति के तहत इन उत्पादों के निर्यात को सुविधाजनक बनाया जाना चाहिए।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।