सर्वाधिक ट्वीट करने पर सिमरन इन्सां का नाम इंडिया बुक आफ रिकार्ड में दर्ज

0
Raniyan Simran Kamra Insan

सराहनीय। पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन शिक्षाओं ने दिलाई सफलता (Raniyan Simran Kamra Insan)

  •  महज 47 मिनट में किए 298 ट्वीट, बन गया रिकॉर्ड

सच कहूँ/सुनील वर्मा सरसा। किसी भी क्षेत्र में प्रतिबद्धता एवं संकल्प के साथ कार्य किया जाए तो सफलता हासिल करने से कोई नहीं रोक सकता। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है रानियां की सिमरन कामरा इन्सां ने। सिमरन इन्सां ने महज 47 मिनट में मोटिवेशनल, हिंदी शेयरों-शायरी, फोटो, वीडियो के 298 ट्वीट कर इंडिया बुक आॅफ रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करवाया है। उनकी इस उपलब्धि में चार चांद तब लग जाते हैं, जब ये सभी ट्वीट अपने पूज्य गुरु जी की शिक्षाओं पर चलते हुए मानव समाज को सकारात्मक दिशा और संदेश देने के लिए किए गए हों।

सिमरन इन्सां ने यह रिकॉर्ड पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां को समर्पित किया है। एसएससी कैमिस्ट्री और बीएड फाइनल कर रही सिमरन इन्सां वर्तमान में एक निजी शिक्षण संस्थान में पढ़ा रही है। इससे पहले यह रिकॉर्ड उत्तर प्रदेश के बागपत निवासी अंकित कुमार के नाम था, जिन्होंने 10 अपै्रल 2020 को एक घंटे में 223 ट्विट किए थे।

11 अगस्त 2020 को इंडिया बुक द्वारा इसे अपने रिकॉर्ड में दर्ज कर लिया

सिमरन इन्सां ने सच कहूँ से विशेष बातचीत में बताया कि उन्हें 12 अक्तूबर 2014 से पहले ट्वीटर के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। जब पूज्य गुरु संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां 12 अक्तूबर 2014 को ट्वीटर पर आए तो उन्होंने भी अपना ट्वीटर अकाउंट बनाया। इसके पश्चात जब बहन हनीप्रीत इन्सां ने जापान के जैकी चैन का रिकॉर्ड तोड़ा तो उनके मन में भी ख्याल आया कि वह भी बहन से प्रेरणा लेकर कोई रिकॉर्ड बनाये और पूज्य गुरु जी का नाम रोशन करे।

इसके पश्चात 9 जुलाई 2020 को रात्रि 12 बजकर 5 मिनट से 12 बजकर 52 मिनट तक लगातार 298 ट्वीट किए। 11 अगस्त 2020 को इंडिया बुक द्वारा इसे अपने रिकॉर्ड में दर्ज कर लिया। सिमरन इन्सां के रिकॉर्ड स्थापित करने पर इंडिया बुक आॅफ रिकार्ड्स की ओर से उन्हें प्रशंसा पत्र एवं एक गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया गया है।

सिमरन की माता ने कहा-हमें अपनी बेटी पर गर्व

सिमरन कामरा इन्सां के पिता जयदयाल इन्सां, माता अंजू इन्सां ने कहा कि उन्हें अपनी बेटी पर गर्व है। उन्होंने बताया कि सिमरन पढ़ाई के साथ-साथ अन्य कल्चरल गतिविधियों में हमेशा आगे रही है। उन्होंने कहा कि अगर बेटियों को सही अवसर मिले तो वो बेटों से कहीं आगे निकल सकती हैं। वहीं सिमरन की बहन स्पर्श इन्सां ने इस उपलब्धि पर खुशी जताते हुए कहा कि हमें जीवन में सकारात्मक सोच के साथ कुछ अच्छा करने के लिए हमेशा प्रयासरत रहना चाहिए।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।