सत्संगी के अनमोल गहने हैं सेवा और सुमिरन

0
Seva and Sumiran are precious jewels of satsangi
सरसा। पूज्य हजूर पिता संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां फरमाते हैं कि सेवा और सुमिरन दो ऐसे गहने हैं जो भी मनुष्य इन्हें पहन लेता है, जीते-जी उसके सभी गम, चिंता, परेशानियां दूर हो जाती हैं , और मरणोपरांत आवागमन का चक्कर जड़ से खत्म हो जाता है। पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि सेवा में सबसे जरुरी बात यह होती है कि अगर इन्सान पूरी तरह से तंदरुस्त है तो वह खुद की सेवा कम करवाए। वह सबसे पहले सेवा की अपने घर से शुरुआत करे। अपनी मां, अपने बुजुर्ग बाप, दादा, परदादा कोई भी है अगर वे असमर्थ हैं तो उनकी मदद करे। यदि आपका तालमेल नहीं बैठता, आपस में लड़ाई-झगड़ा रहता है तथा वे अलग हो जाते हैं तो उनकी कभी निंदा नहीं करनी चाहिए।
पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि अगर इन्सान अपने परिवार से अलग हो जाए व उनके आपस में विचार नहीं मिलते तो आप सुमिरन करते रहिए, क्योंकि वे आपके जन्मदाता हैं, उनका ऋण इन्सान कभी नहीं उतार सकता। इसलिए इन्सान को उनकी बुराइयों को नहीं देखना चाहिए। अगर आप अपने मां-बाप की बुराइयों को गाते हैं तो आप कैसे भले इन्सान बन जाएंगे और जो मां-बाप हैं वे भी अपनी संतान की बुराइयों को मत गाएं, क्योंकि वो भी आपका ही खून हैं, वह कहीं बाहर से तो आया नहीं। ऐसा करने से आप भी तो बुरे बन जाएंगे, क्योंकि वो भी तो आपका ही खून है। इस लिए सबका सत्कार करना सीखें। इन्सान को नेक कर्म करते रहने चाहिए, लेकिन उसको इस बारे में कुछ बताने की जररुरत नहीं, क्योंकि अगर इन्सान कर्म अच्छे करेगा तो वो ऊपर बैठा राम सब कुछ देख रहा है, उसे इसका फल जरुर मिलेगा। पूरी दुनिया में अच्छे कर्म वाले इन्सान को सभी नमस्कार जरूर करते हैं। इसलिए जीव को जितना संभव हो सके यही सेवा करनी चाहिए।
आप जी फरमाते हैं कि सच्चे मन से सत्संग सुनिये, मालिक के नाम की चर्चा कीजिए। धन से दीन, दु:खियों व बीमारों की सहायता कीजिए और तन की सेवा जो यहां पर आश्रम में कई प्रकार से की जाती है, जिस प्रकार सफाई अभियान की भी तन की महान सेवा है। इसमें जिस स्थान पर आप सफाई करते हैं वहां के लोगों की दुआएं तो आपको लगेंगी ही, साथ ही आपको मालिक भी खुशियां बख्शेगा। तन सेवा के साथ-साथ इन्सान को सुमिरन भी जरुर करना चाहिए। क्योंकि भजन-सुमिरन के बिना मन किसी के काबू नहीं आता। आप जी फरमाते हैं कि उस मालिक की भक्ति-इबादत से इन्सान की किस्मत व सोच बदल जाएगी और उसकी जिंदगी में बेइन्तहां खुशियां आने लग जाएंगी। उसे जो जिंदगी नीरस लगती थी, पीर-फकीर की बात सुनकर उसपर अमल करने से, नाम जपने व सेवा करने से उसी जिदंगी में बहारें आ जाती हैं और इन्सान तो क्या उसके परिवारजन भी खुशियों से मालामाल रहने लगते हैं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।