सतिन्द्र इन्सां ने अपना नाम इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड में किया दर्ज

0
Satindra Insan

कामयाबी का पूरा श्रेय पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां को दिया

सच कहँ/रवीपाल  दोदा। इंटरनेट के इस दौर में सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिसके जरिये मनुष्य कुछ भी सीख सकता है, यह हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हम इसका इस्तेमाल किस तरीके से करते हैं। यदि सोशल मीडिया का इस्तेमाल सही तरीके से किया जाये तो जिंदगी में कुछ भी किया जा सकता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है गिद्दड़बाहा हलके के गांव साहब चंद की सतिन्द्र इन्सां पुत्री जसवीर सिंह इन्सां ने। सतिन्द्र इन्सां ने 11 अक्तूबर 2020 को सुबह 2 बजे से 2.25 तक अपने टविट्र अकाऊंट से सिर्फ 25 मिनटों में 302 ट्वीट कर अपना नाम इंडिया बुक आॅफ रिकार्ड में दर्ज करवाया है।

सतिन्द्र इन्सां ने जानकारी देते बताया कि उन्होंने अपने टविट्र अकाऊंट में डेरा सच्चा सौदा द्वारा चलाए जा रहे 134 मानवता भलाई के कार्यों और खुद की ओर से लिखी शायरी, हंसी-मजाक वाले ट्वीट और कुछ संदेश लिखे। टविट्र पर ट्वीट संबंधित इससे पहले यह रिकार्ड अंंकित इन्सां बड़ोत (उत्तर प्रदेश) के नाम था। सतिन्द्र इन्सां ने उसके रिकार्ड को पीछे छोड़ते हुए अपना नाम इंंडिया बुक आॅफ रिकार्ड में दर्ज करवाया। इसके लिए उसने दिन-रात मेहनत की और दीवाली की रात को उसकी मेहनत रंग लाई और सतिन्द्र इन्सां को इंडिया बुक आॅफ रिकार्ड ने मैडल देकर सम्मानित किया गया।

 ब्लॉक भंगीदास और 15 मैंबर और जिम्मेदार सेवादारों ने सतिन्द्र इन्सां की उपलब्धि पर परिवार को बधाई दी

सतिन्द्र इन्सां ने बताया कि उसे पहले टविट्र बारे कोई जानकारी नहीं थी। उसने अगस्त 2001 में अपना टविट्र अकाउंट बनाया और उसमें पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां के ट्वीट देखे और उसके बाद टविट्र प्लेटफार्म पर पूज्य गुरू जी को फॉलो करना शुरू किया और कभी भी नहीं सोचा था कि उसका नाम इस तरह इंडिया बुक आफ रिकॉर्ड में दर्ज होगा। सतिन्द्र ने अपनी इस कामयाबी का पूरा श्रेय पूज्य गुरू संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां को दिया। इस काम में उसके माता -पिता का पूरा सहयोग उसे मिल रहा है। सतिन्द्र इन्सां के पारिवारिक सदस्यों ने बताया कि सतिन्द्र पंजाबी यूनिवर्सिटी पटियाला से मास्टर आॅफ पुस्तकालय और इम्फॉरमेशन विज्ञान की पढ़ाई पूरी कर चुकी है और उनको अपनी बेटी और उसकी उपलब्धि पर गर्व है।

ब्लॉक दोदा के ब्लॉक भंगीदास और 15 मैंबर और जिम्मेदार सेवादारों ने सतिन्द्र इन्सां की उपलब्धि पर परिवार को बधाई दी और पूज्य गुरू जी का शुक्राना किया। परिवारिक सदस्यों ने इस उपलब्धि के लिए पूज्य गुरू जी का शुक्राना किया।

गिद्दड़बाहा हलके के गांव साहब चंद की सतिन्द्र इन्सां पुत्री जसवीर सिंह इन्सां ने। सतिन्द्र इन्सां ने 11 अक्तूबर 2020 को सुबह 2 बजे से 2.25 तक अपने टविट्र अकाऊंट से सिर्फ 25 मिनटों में 302 ट्वीट कर अपना नाम इंडिया बुक आॅफ रिकार्ड में दर्ज करवाया है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।