बठिंडा : कार से टकराकर पलटी निजी कंपनी की बस, चार की मौत

0
Road accident

डेरा श्रद्धालुओं ने घायलों को पहुंचाया अस्पताल, किया रक्तदान | Road Accident

  • चार दर्जन से अधिक सवारियां घायल, अस्पताल में भर्ती

बठिंडा/गोनियाना(सच कहूँ/जगतार जग्गा)। बीते शाम करीब साढ़े चार बजे गोनियाना से श्री अमृतसर साहब (Road Accident) नेशनल हाईवे पर ग्रीन बस सर्विस कंपनी की बस पीबी 04 -9885 और कार की आपसी टक्कर होने के कारण चार की मौत व चार दर्जन सवारियां घायल हो गई। मौके से एकत्रित जानकारी अनुसार ग्रीन बस सर्विस कंपनी की बस गोनियाना से श्री अमृतसर साहब की तरफ जा रही था जब यह बस गांव हरराएपुर नजदीक पहुंची तो एक कार के साथ टकरा कर पलट गई। मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि कार चालक एक मोटरसाईकल को बचाते हुए डिवाईडर के साथ जा टकराया, जिसके साथ टकरा कर बस पलट गई बस पलटने से लगभग चार दर्जन के करीब सवारियां घायल हो गई और चार के करीब मौतों की पुष्टि हुई है।

इस हादसे की सूचना मिलते ही शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैलफेयर फोर्स विंग के सेवादारों, बठिंडा की सहारा जन सेवा, युवा वैलफेयर सोसायटी, 108 एम्बुलैंस ने घटनास्थल पर पहुंंचकर वाहनों की सहायता से घायलों को तुरंत सिविल अस्पताल गोनियाना पहुंचाया, जबकि कुछ को कुछ निजी अस्पतालों में दाखिल करवाया गया। सूचना मिलने पर एसएसपी बठिंडा डॉ. नानक सिंह, गोपाल चंद भंडारी डीएसपी भुच्चों, सुखप्रीत सिंह सिद्धू एडीसी बठिंडा के अलावा नायब तहसीलदार और थाना नेहियां वाला की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। समाचार लिखे जाने तक घायलों को एम्बुलैंसों की मदद से सिविल अस्पताल बठिंडा में ले जाया जा रहा था।

डेरा श्रद्धालुओं ने की घायलों की संभाल

इस हादसे दौरान घायल हुए लोगों को सिविल अस्पताल में पहुंचाने व उनकी संभाल करने के लिए बड़ी संख्या में डेरा सच्चा सौदा श्रद्धालु भाई व बहनें मौके पर घटनास्थल पर पहुंचे व घायलों की संभाल करने में जुट गए। ब्लॉक भंगीदास प्रदीप इन्सां व रक्तदान इकाई के जिम्मेवार राजिन्द्र सिंह ने बताया कि घायलों के लिए रक्त की जरूरत को देखते हुए शाह सतनाम जी ग्रीन एस वैलफेयर फोर्स की ओर से इंसानियत का फर्ज समझते हुए बठिंडा के वादी अस्पताल में रक्त का प्रबंध किया गया।

हर मरीज के लिए रक्त मुहैया करवाने की सेवा शुरू कर दी गई है, ताकि किसी की कीमती जिंदगी को बचाया जा सके। इसके अलावा ब्लॉक महिमा गोनियाना की रक्तदान व नेत्रदान इकाई की ओर से एक हेल्पलाइन नंबर भी मरीजों के लिए जारी कर दिया गया है।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करे।