Breaking News

पुलिस से भिड़े मजदूर नेता रेहड़ी यूनियन प्रदर्शनकारी

Rehari, Union, Protesters, Clash,  Police, Suratgarh, ASI Injured

आपसी भिड़त दौरान सिटी थाना प्रभारी हुआ लहूलूहान||  Suratgarh ASI Injured

सूरतगढ़ (बलजीत राजपूत)। मजदूर नेता रेहड़ी यूनियन अध्यक्ष सखी मोहम्मद को पुलिस हिरासत (Suratgarh ASI Injured) में रखकर अमानवीय यातनाएं देने वाले आईपीएस मृदुल कच्छावा, चौकी प्रभारी कलावती चौधरी व तीन सिपाहियों को निलंबित करने की मांग को लेकर पूर्व घोषित प्रशासन ठप्प करने को लेकर उपखण्ड कार्यालय पर सभा के बाद प्रदर्शन के दौरान पुलिस के साथ धक्का मुक्की करके अन्दर घुसने के प्रयास में आक्रोशित आन्दोलनकारियों व सिटी थाना आपस में भिड़ गए। इस दौरान सिटी थाना प्रभारी निकेत पारीक के सर लाठी लगने से वो लहूलूहान हो गए। पुलिस ने आन्दोलनकारियों को खदेड़ने के साथ 10-12 लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने सत्यप्रकाश सिहाग, राजेन्द्र मुद्गल, उमेश मुद्गल, सखी मोहम्मद सहित को गिरफ्तार करके थाने ले गए।

आक्रोशित नारे लगाते हुए हो गए उग्र || Suratgarh  ASI Injured

नेताओं के वाहन, बाइक सहित सभा स्थल का पण्डाल, साउंड भी जब्त किया। इसके बाद पुलिस ने 6 दिनों से आमरण अनशन पर बैठे शीतल सिडाना को उठाकर हॉस्पिटल में भर्ती करवाया, वह लगा पण्डाल भी उखाड़कर जब्त कर लिया। सभा के बाद आन्दोलनकारी नेताओं की अगुवानी में उपखण्ड अधिकारी सीता शर्मा से मिलने के लिए कार्यालय में प्रवेश के दौरान राजू जाट, सत्यप्रकाश सिहाग सहित लोगों ने आक्रोशित नारे लगाते हुए उग्र हो गए। पुलिस क साथ टकराव करने के दौरान धक्का-मुक्की होने के कारण थाना प्रभारी निकेत पारीक के सिर में लाठी लगने से खून बहने लगा।

इस पर पुलिस ने नेताओं को खदेड़ कर गलियों में पीछे भाग भाग कर पकड़ना शुरू कर दिया। तनावपूर्ण माहौल के बीच राजू जाट भीड़ से निकलकर भागने में सफल रहा। पुलिस ने पीछा भी किया पकड़ में नहीं आया। पुलिस मामले को शांतिपूर्वक निपटाना चाहती थी, आक्रोशित भीड़ की वजह से माहौल खराब हो गया। पुलिस पर हुए हमले की घटना को लेकर पूर्व विधायक गंगाजल मील, कांगेस जिला उपाध्यक्ष बलराम वर्मा, बसपा नेता डूंगरराम गेधर, सत्नीम वर्मा, अमित कल्याणा, महावीर भोजक, बलराम कुक्कड़वाल , डॉ हरिमोहन सारस्वत, पीताम्बर शर्मा, मुखराम खिलेरी ने उपखण्ड अधिकारी सीताशर्मा से मिलकर घटना की निंदा करते हुए कहा संघर्ष समिति शांतिपूर्ण आन्दोलन कर रही थी। जिन नेताओं ने पुलिस पर हमला किया है उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

 

लोकप्रिय न्यूज़

To Top