तीन दिन से नहीं पहुंचा मजदूरों के घर राशन

0
Ration of Laborers

प्रशासन ने राशन व सैनेटाइजर पहुंचाने का दिलवाया भरोसा | Ration of Laborers

संगरूर (सच कहूँ न्यूज)। कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए कर्फ्यू में हर जरूरतमंद तक राशन पहुंचाने के प्रशासन द्वारा किए गए दावे खोखले साबित हो रहे हैं। क्योंकि कर्फ्यू में राशन की किल्लत के कारण कई मजदूरों ने पैदल ही अपने गांव जाने का फैसला लिया है। डॉ. अंबेडकर नगर में रहने वाले 14 मजदूरों के घरों पर पिछले तीन दिन से राशन नहीं है। प्रशासन द्वारा बांटे जा रहे राशन की मदद का इंतजार करके भी वह थक चुके हैं, लेकिन शनिवार दोपहर तक भी राशन नहीं मिला। भूख से तड़प रहे उक्त परिवारों ने अपने घर झारखंड वापस जाने का फैसला कर लिया। दिहाड़ी करने वाले इन मजदूरों ने दुख जताते हुए कहा कि प्रशासन द्वारा कर्फ्यू के पांच दिन बीत जाने के बाद भी उन्हें कोई सहायता नहीं दी गई है।

भूखमरी से मरने की बजाए उन्होने पैदल ही अपने गांव लौटने का फैसला लिया

रामजी दास, बनारसी दास, संतोष दास, बिरत दास, सुनील दास, रामदीन दास, बब्लू दास, महेश दास, वरुण दास, बिरजू दास, लक्ष्मण दास, वगंबर दास, बबलू तांती ने बताया कि वह यहां अपने परिवार का पालन करने के लिए दिहाड़ी करते हैं।

  • वह जो कमाते हैं उसका अधिकतर हिस्सा यहीं पर खर्च हो जाता है।
  • कुछ हिस्सा वह अपने गांव में परिजनों को भेज देते थे।
  • उनके पास जो रकम थी, वह भी कर्फ्यू के दौरान सब्जी व दूध लाने पर खर्च हो गई।
  • अब हालत ऐसी हो चुकी है कि अगर कुछ दिन यहां रहे तो वह भूख से ही मर जाएंगे।
  • प्रशासन द्वारा कर्फ्यू दौरान उनकी कोई सहायता नहीं दी गई।

इस भूखमरी से मरने की बजाए उन्होने पैदल ही अपने गांव लौटने का फैसला ले लिया। शनिवार को भी वह इसलिए रुक गए क्योंकि वीरवार को उनके पड़ोस में रहने वाले समाजसेवी डॉ. देव सिंह ने उन्हें कुछ राशन दे दिया था। अगर प्रशासन द्वारा जल्द ही उन्हें कोई सहायता न दी गई तो वह पैदल झारखंड के लिए रवाना हो जाएंगे।

राशन सहित जरूरी सामान जल्द मुहैया करवाए प्रशासन: रवि

समाज सेवी रवि कुमार राणा ने कहा कि कर्फ्यू के दौरान जरूरतमंदों तक खाना पहुंचाना प्रशासन का पहला दायित्व होता है। इन जरूरतमंद दिहाड़ीदार मजदूरों को प्रशासन द्वारा कोई राशन नहीं दिया गया। कोरोना वायरस को फैलने को रोकने के लिए प्रशासन को ऐसे लोगों को मास्क, साबुन व सैनिटाईजर भी मुहैया करवाना चाहिए।

सहायता देने की जिम्मेदारी प्रशासन की : एसडीएम

  • एसडीएम बबनदीप सिंह ने कहा कि इस घड़ी में प्रशासन हर जरूरतमंद की सहायता के लिए जिम्मेदार है।
  • इन प्रवासी मजदूरों को भी जल्द ही जरूरत का सारा सामान मुहैया करवाया दिया जाएगा।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।