Rajasthan Panchayat Election : 17 जनवरी से तीन चरणों में होंगे चुनाव, आचार संहिता लागू

0
Rajasthan Panchayat elections

राजस्थान राज्य निर्वाचन आयोग ने  9171 ग्राम पंचायतों के चुनाव का कार्यक्रम घोषित | Rajasthan Panchayat Election

Edited By Vijay Sharma

जयपुर (एजेंसी)। राजस्थान में जनवरी में पंचायतों के चुनाव (Rajasthan Panchayat Election) कराए जाएंगे। राजस्थान राज्य निर्वाचन आयोग ने राजस्थान की 9171 ग्राम पंचायतों के चुनाव का कार्यक्रम घोषित कर दिया। चुनाव तीन चरणाों में होंगे। चुनाव कार्यक्रम घोषित होने के साथ ही प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के लिए चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। पहले चरण के चुनाव के लिए आगामी 17 जनवरी, दूसरे चरण के लिए 22 जनवरी और तीसरे चरण का चुनाव 29 जनवरी को मतदान होगा।

राजस्थान में 11 हजार 142 ग्राम पंचायतें हो गई है, जबकि पिछली बार 9872 पंचायतों के लिए चुनाव हुआ था। पंचायतों के पुनर्गठन को लेकर इस बार कुछ देरी तो राज्य सरकार की ओर से की गई और बाद में इस पुनर्गठन को कोर्ट में चुनौतियां भी मिली। करीब 85 याचिकाएं कोर्ट में दायर हुई।

पहली बार सरपंचों का चुनाव ईवीएम से होगा |Rajasthan Panchayat Election

राज्य के मुख्य निर्वाचन आयुक्त प्रेमसिंह मेहरा ने बताया कि इन पंचायतों के 90400 वार्डों में जनवरी में तीन चरणों में चुनाव कराए जाएंगे। पहली बार सरपंचों का चुनाव ईवीएम से होगा और सरपंच चुनाव के प्रचार के लिए प्रत्याशियों को करीब एक सप्ताह का समय मिलेग, जबकि पिछली बार तक यह समय नहीं मिल पाता था। इस बार नामांकन के बाद सरपंच पद के प्रत्याशियों की सूची छपवाई जाएगी और फिर चुनाव होगा। सरपंच पद के लिए चुनाव खर्च सीमा भी बढाई गई है। पिछली बार यह 20 हजार थी जबकि इस बार इसे बढा कर 50 हजार कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि जिला परिषद सदस्यों और पंचायत समितियों शेष बची अन्य ग्राम पंचायतों के चुनावों के तारीखों का ऐलान बाद में किया जाएगा

आचार संहिता लागू | Rajasthan Panchayat Election

  • चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है।
  • अब सरकार लोक लुभावन घोषणाएं नहीं कर सकेगी।
  • तबादलों पर प्रतिबंध रहेगा
  • मंत्रियों के राजकीय दौरे पर सरकारी मशीनरी का उपयोग करने पर रोक रहेगी।
  •  सरकार वित्तीय मंजूरी नहीं दे सकती और नई स्कीम की आधारशिला रखने पर भी रोक रहेगी।

शैक्षणिक योग्यता की अनिवार्यता हटाई

पिछली बार भाजपा सरकार ने पंचायत चुनाव लड़ने वालों के लिए न्यूनतम शैक्षिणक योग्यता निर्धारित कर दी थी। उस समय कांग्रेस ने इसका कड़ा विरोध किया था। इस बार चुनाव घोषणापत्र में कांगे्स ने यह अनिवार्यता हटाने का वादा भी किया था और सरकार में आते ही इसे हटा भी दिया गया। ऐसे में इस बार शैक्षणिक योग्यता की अनिवार्यता नहीं है और कोई भी चुनाव लड़ सकेगा। वहीं दो से अधिक संतान वाले चुनाव नहीं लड़ पाएंगे।

सरपंच और वार्ड पंचों का चुनाव कार्यक्रम

पहला चरण

  • 116 पंचायत समितियों की 3691 पंचायतों और 36047 वार्ड पंचों के चुनाव।
  • 13794 बनाए गए बूथ।
  • 7 जनवरी को जारी होगी अधिसूचना।
  • 8 जनवरी को सुबह 10.30 से 4.30 बजे तक कर सकेंगे नामांकन।
  • 9 जनवरी 3 बजे तक ले सकेंगे नाम वापस, इसके बाद चुनाव चिन्हों का होगा आवंटन।
  • 16 जनवरी को पहुंच जाएगा मतदान दल।
  • 17 जनवरी को सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक होगा मतदान।
  • 17 जनवरी को ही मतदान के बाद होगी मतगणना।
  • 18 जनवरी को होगा उप सरंपच का चुनाव।

दूसरा चरण

  • 102 पंचायत समितियों की 3237 सरपंचों और 31376 वार्ड पंचों के चुनाव।
  • 11873 बनाए गए बूथ।
  • 11 जनवरी को जारी होगी अधिसूचना।
  • 13 जनवरी को सुबह 10.30 से 4.30 बजे तक कर सकेंगे नामांकन।
  • 14 जनवरी 3 बजे तक ले सकेंगे नाम वापस, इसके बाद चुनाव चिन्हों का होगा आवंटन।
  • 21 जनवरी को पहुंच जाएगा मतदान दल।
  • 22 जनवरी को सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक होगा मतदान।
  • 22 जनवरी को ही मतदान के बाद होगी मतगणना।
  • 23 जनवरी को होगा उप सरंपच का चुनाव।

तीसरा चरण

  • 69 पंचायत समितयों में 2243 सरपंच और 22977 वार्ड पंचों के चुनाव।
  • 8858 बनाए गए बूथ।
  • 18 जनवरी को जारी होगी अधिसूचना।
  • 20 जनवरी को सुबह 10.30 से 4.30 बजे तक कर सकेंगे नामांकन।
  • 21 जनवरी 3 बजे तक ले सकेंगे नाम वापस, इसके बाद चुनाव चिन्हों का होगा आवंटन।
  • 28 जनवरी को पहुंच जाएगा मतदान दल।
  • 29 जनवरी को सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक होगा मतदान।
  • 29 जनवरी को ही मतदान के बाद होगी मतगणना।
  • 30 जनवरी को होगा उप सरंपच का चुनाव।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।