सुरक्षा पर सवाल, पुलिस का घर ही साफ कर गए चोर

0
Questions on security, thieves cleaned police house

90 हजार की नकदी व 15 लाख के सोने-चांदी के जेवर लेकर चोर फरार 

  • फर्रूखनगर में चोरों का आतंक, पुलिस के लिए चोर बने सिरदर्द

सच कहूँ/संजय मेहरा गुरुग्राम। फर्रूखनगर क्षेत्र में चोरों का आंतक इस कदर बढ़ गया है (Theft) कि आम आदमी के घरों की सुरक्षा करने वाली पुलिस के घर में ही चोरों ने लाखों के सामान पर हाथ साफ कर दिया। पुलिस के लिए ये चोर सिरदर्द बने हुए हैं। जिस तरह से क्षेत्र में चोरियों की वारदातों बढ़ी हैं, उससे लगता है कि क्षेत्र में कोई बड़ा गैंग इन वारदातों को अंजाम दे रहा है। फर्रूखनगर के वार्ड-6 स्थित बालाजी नगर निवासी पिता-पुत्र पुलिस में हैं। उनके घर से चोर करीब 90 हजार नकद, करीब 15 लाख रुपए कीमत के सोने चांदी के जेवर लेकर फरार हो गए। थाना फर्रूखनगर पुलिस ने पुलिसकर्मी के पुत्र नवीन के बयान पर अज्ञात चोरों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। नरेंद्र ने बताया कि वह भोंडसी आरटीसी में हवलदार का प्रशिक्षण ले रहा है। वहीं उसके पिता पूर्णमल गुरुग्राम के डीएलएफ फेस वन थाना में भारतीय सेना से रिटायर्ड होने के बाद हवलदार के रूप में तैनात हैं। उसका भाई घर पर ही बालाजी नगर में परचून की दुकान चलाता है। बीती रात्रि अज्ञात चोर उसके घर में घुसकर चोरी की घटना को अंजाम दे गए।

पहले बंद की स्ट्रीट लाइट, फिर तोड़ा घर का ताला

हवलदार नरेन्द्र ने बताया कि उसकी पत्नी अपने मायके गई हुई थी और मां रात्रि को दवाई लेकर करीब 11 बजे आई थी। घर पर ताला लगा हुआ था। रात्रि में चोरों ने घर के सामने लगी स्ट्रीट लाईट को बंद किया और घर का ताला तोड़कर घर में रखे करीब 90 हजार रुपए, करीब 25-30 तोले सोने के जेवर और करीब तीन किलो चांदी के जेवर, जरूरी कागजात, कीमती वस्त्र व अन्य सामान चुरा ले गए। पुलिस ने मामला दर्ज करके छानबीन शुरू कर दी है।

टीवीएस एजेंसी मालिक के घर पर सेंधमारी

फर्रूखनगर-वजीरपुर रोड स्थित लार्ड कृष्णा अस्पताल के सामने टीवीएस मोटर साइकिल एजेंसी के मालिक के घर का ताला तोड़कर चोर करीब 50 तोले सोने के जेवर व करीब 60 हजार रूपए नकद चोरी कर ले गए। नवीन पुत्र राजेन्द्र सिंह यादव ने बताया कि उन्होंने अपने टीवीएस शोरूम के पीछे पांच मंजिला मकान बनाया हुआ है। घर पर पेंट कराने का कार्य दूसरी मंजिल पर चल रहा है। शनिवार को वह और उसका छोटा भाई रवि यादव मानेसर में बाइक के शोरूम पर थे। उनके पिता राजेन्द्र सिंह, मां सुमन देवी, पत्नी कविता तीनों बच्चों सहित सुल्तानपुर स्थित अपने खेत में रोज की भांति पशुओं की देखभाल व दूध निकालने को करीब 4 बजे गए थे। जब शाम को करीब सात बजे घर वापिस लौटे तो कमरों के ताले टूटे हुए और दरवाजे खुले पड़े थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।