बर्खास्त पीटीआई का फूटा गुस्सा, कृषि मंत्री के आवास का किया घेराव

0
PTI Dismissed by anger, siege of Agriculture Minister's residence

बेरीकेड पर पुलिस से हुआ जमकर टकराव

  • बेहोश होकर गिरी बर्खास्त महिला पीटीआई
भिवानी (सच कहूँ/इन्द्रवेश दुहन)। बर्खास्त पीटीआई अध्यापकों ने सोमवार को अपनी बहाली की मांग को लेकर प्रदेश भर में मंत्रियों के आवासों पर हल्ला बोला। भिवानी में पांच जिलों के सैकड़ों बर्खास्त पीटीआई ने बैरिकेडिंग पर पुलिस से टकराव करते हुए कृषि मंत्री के आवास का घेराव किया। अपनी बर्खास्तगी के 100 दिन होने के बाद सोमवार को पीटीआई सड़कों पर उतरे। सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और प्रदेश सरकार के मंत्रियों के आवास पर घेराव कर रोष जाहिर किया। भिवानी में पांच जिलों के सैकड़ों बर्खास्त पीटीआई कृषि मंत्री के आवास का घेराव करने पहुंचे। यहां वो मंत्री के आवास के पास लगे पुलिस के बैरिकेड पर पुलिस से टकराए और बैरिकेडिंग तोड़ते हुए मंत्री के आवास तक पहुंचे। इस दौरान एक बर्खास्त महिला बेहोश होकर जमीन पर गिर गई। राजेश नामक इस महिला ने अपनी नौकरी जाने पर सरकार को जमकर कोसा और खूब भला-बुरा कहा। इसने रोते-रोते बताया कि रोजी (नौकरी) जाने के बाद उनके घर रोटी के लाले पड़ गए हैं। वो अब ना जी सकते और ना मर सकते। वहीं बर्खास्त पीटीआई यूनियन के जिला महासचिव राजेश श्योराण ने बताया कि उनकी नौकरी चली गई और अब लोकतंत्र में उन्हें विरोध जताने से भी पुलिस के माध्यम से सरकार रोकना चाहती है। उन्होंने कहा कि एक अक्टूबर को उनकी सीएम से वार्ता है। अगर सीएम से वार्ता में बहाली की बात नहीं बनी तो दो अक्टूबर को प्रदेश भर में दो लाख कर्मचारी सड़कों पर आ जाएंगे। उन्होंने बताया कि बहाली नहीं हुई तो वो अब सरकार से आर-पार की लड़ाई लड़ने को तैयार हैं।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।