Breaking News

राजनीति: अब परिवारवाद के भरोसे अकाली दल

  • राजनीति बादल परिवार के पास चार विधानसभा व एक लोक सभा सीट
  • कांग्रेस व आम आदमी पार्टी ने किया किनारा
  • 10 उम्मीदवार अकाली दल के वरिष्ठ नेताओं के परिवारिक सदस्य हैं

ChandiGarh, Ashwani Chawla: पंजाब विधान सभा चुनावों में परिवारवाद प्रभावी है। इससे पहले कांग्रेस व आम आदमी पार्टी ने परिवारवाद के रूझान को सिरे से नकार दिया है। वहीं यदि हम सत्तापक्ष अकाली दल की बात करें तो इस पार्टी में परिवारिक सदस्यों को टिकट देने का सबसे ज्यादा रूझान है। यही एक ऐसी पार्टी है, जिसमें पिता-पुत्र, जीजा-साला व दामाद को टिकट देने की पुरानी रीत चलती आ रही है। इस रीत में कई नेताओं के घरों की पुत्रवधू भी शामिल है।
शिरोमणी अकाली दल में बादल परिवार एकमात्र ऐसा परिवार है, जिसके पास 4 विधान सभा सहित एक लोक सभा सीट भी है। बादल परिवार के बाद मौजूदा 4 सांसदों ने अपने पुत्रों व एक सांसद ने अपने भाई को टिकट दिलवाई है। मौजूद कैबिनेट मंत्री तोता सिंह खुद व अपने पुत्र को टिकट दिलवाने में कामयाब रहे।
कांग्रेस ने किया किनारा
शिरोमणी अकाली दल में परिवारवाद इस कद्र प्रभावी हो चुका है कि आगामी विधानसभा चुनावों में बादल परिवार विरोधी पार्टियों के निशाने पर आ सकता है, क्योंकि कांग्रेस प्रधान अमरेन्द्र सिंह इसका ऐलान कर चुके हैं कि कांग्रेस में एक परिवार में एक को ही टिकट दी जाएगी। चाहे कोई भी कितना बड़ा नेता भी क्यों न हो। इसी ऐलान अनुसार कांग्रेस पार्टी में टिकटों की बांट की जा रही है।
परिवार को चार टिकटें
सुखबीर बादल ने अपने परिवार को 4 टिकटें दी है, जिसमें वह खुद व पिता प्रकाश सिंह बादल, पूत्रवधू हरसिमरत कौर बादल व उसके भाई बिक्रम सिंह मजीठिया को टिकट दी गई है। इसके अलावा अपने जीजा आदेश प्रताप सिंह कैरों को को पट्टी से उम्मीदवार घोषित किया है। सुखबीर बादल ने अभी तक अपने विधानसभा क्षेत्र व पिता प्रकाश सिंह बादल की सीट का ऐलान नहीं किया।

उम्मीदवारों की सूची
परिवारवाद में शिरोमणी अकाली दल के सांसद सदस्य रणजीत सिंह ब्रह्मपूरा के पुत्र रविन्द्र सिंह ब्रह्मपुरा को खडूर साहब से टिकट दी गई है, जबकि राज्य सभा मैंबर सुखदेव सिंह ढींडसा के पुत्र परमिन्दर ढींडसा को लहरागागा से उम्मीदवार बनाया गया है। परिवारवाद में आगे बढ़ते हुए सुखबीर बादल ने अपने चौथे सासंद सदस्य बलविन्दर सिंह भून्दड़ के पुत्र दिलराज भून्दड़ को सरदूलगढ़ से टिकट दी है। पांचवें सांसद सदस्य प्रेम सिंह चन्दूमाजरा के पुत्र हरिन्द्रपाल सिंह चन्दूमाजरा को सनौर हलके से उम्मीदवार बनाया गया है। इन्हीं पांचों सांसद सदस्यों ने अपने पुत्रों को टिकट दिलवाने के बाद मौजूदा कैबिनेट मंत्री तोता सिंह ने खुद धर्मकोट से टिकट प्राप्त की और अपने पुत्र बरजिन्दर सिंह मक्खन बराड़ को भी मोगा हलके से टिकट दिलाने में कामयाब हुए।

मुख्यंत्री तो लम्बी से ही उम्मीदवार होंगे लेकिन सुखबीर बादल जलालाबाद के अलावा एक सीट अन्य से चुनाव लड़ सकते हैं। यदि सुखबीर बादल ने दो सीटों से उम्मीदवार बने तो बादल परिवार के खाते 5 सीटों आ जाएंगी।

हलका                     अकाली उम्मीदवार                                        किस नेता के साथ रिश्तेदारी
जलालाबाद              सुखबीर बादल                                                  शिरोमणी अकाली दल के प्रधान व प्रकाश सिंह बादल के पुत्र
लंबी                         प्रकाश सिंह बादल                                            शिरोमणी अकाली दल के सरप्रस्त व सुखबीर बादल के पिता
मजीठा                     बिक्रम सिंह मजीठिया                                      हरसिमरत कौर बादल के भाई
पट्टी आदेश               प्रताप सिंह कैरों                                                 प्रकाश सिंह बादल के दामाद
खडूर                        रविन्दर सिंह                                                     ब्रह्मपुरा सांसद रणजीत ब्रह्मपुरा के पुत्र
लहरागागा               परमिन्द्र ढींडसा                                                 राज्य सभा सदस्य सुखदेव ढींडसा के पुत्र
सरदूलगढ़                दिलराज भून्दड़                                                 राज्य सभा सदस्य बलविन्दर भूदड़ के पुत्र
सनौर                       हरिन्द्रपाल चन्दूमाजरा                                      सांसद प्रेम सिंह चन्दूमाजरा के पुत्र
धर्मकोट                   तोता सिंह                                                          खुद कैबिनेट मंत्री
मोगा                       बरजिन्द्र सिंह बराड़                                            कैबनिट मंत्री तोता सिंह के पुत्र

लोकप्रिय न्यूज़

To Top

Lok Sabha Election 2019