लेख

सरबजीत घटना पर क्यों चढ़ रहा राजनीतिक रंग

Political color climbs to Sarabjit incident

 रविवार ग्रामीण सेवा का चालक सरबजीत मुखर्जी नगर से गुजर रहा था तभी पुलिस की इमरजेंसी रिस्पांस व्हीकल से उसकी गाड़ी टकरा गई जिस पर दोनों पक्षों के बीच बहस हो गई। पुलिसकर्मियों का आरोप है कि चालक ने कृपाण से हमला किया। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने बीच सड़क चालक को डंडों से पीटा। ज्वाइंट कमिश्नर और क्राइम ब्रांच को जांच सौंपी गई है। दोनों ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई है। घटना स्थल पर लोगों को कहना था कि गाडी टकराने के बाद एक पुलिसकर्मी औऱ सरबजीत की आपस में की गर्मागर्मी हो गई थी जिस पर सरबजीत पुलिस वाले पर कृपाण निकाल कर उसको हड़का रहा था। इसके बाद उस पुलिस वाले ने थाने से अपने साथियों को बुलाकर उसको काबू करने का प्रयास किया तो सरबजीत और उग्र हो गया था व उसने एक पुलिसकर्मी को कृपाण से क्षतिग्रस्त किया। उस पुलिसवाले के करीब दस टाकें भी आए हैं। फिर पुलिस सभी पुलिस वालो ने सरबजीत को बहुत मारा।

लेख में हमारा मुद्दा यह है कि यह महज एक घटना है जिस पर हर पार्टी अपनी रोटी सेंक रही है जो कि हर बार होता आया है। इस घटना को मजहबी रंग भी चढ़ाया जा रहा है। अरविंद केजरीवाल ने गृह मंत्री अमित शाह और उपराज्यपाल अनिल बैजल से चालक को पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की। नई दिल्ली के पुलिस उपायुक्त एवं दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता मधुर वर्मा ने कहा कि मामले को जांच के लिए अपराध शाखा के पास भेजा गया है। ऐसा हम देखते व समझते आए हैं कि सिक्के दो पहलु होते हैं जिसे जनता तो समझ रही है

लेकिन हमारे देश के कुछ नेता नही समझ पा रहे। यह घटना होते ही देशभर में इसका विडियो वॉयरल हुआ जिसे कुछ लोगों ने सरबजीत का पक्ष रखा तो कुछ लोगों ने पुलिस का तो साथ ही कुछ लोगों ने सिर्फ इसको एक घटना ही बताई। मुखर्जी नगर थाने के जमा भीड़ ने एसीपी पर भी हमला करने की कोशिश की जिस पर उन्हें भाग कर जान बचानी पड़ी।  आक्रोश के चलते इस घटना पर गृहमंत्रालय ने भी इस रिपोर्ट मांगी है।

आश्चर्य होता है कई बार जब हम अपने आप से कई सवालों के जबाव नही ढूंढ पाते ? क्या भेड़चाल जिंदगी का हिस्सा बन गई या फिर हमें मौके का नाजयाज फायदा उठाना आ गया। जबकि हमारे देश में इस समय जनसंख्या 125 करोड़ के के भी पार पहुंच गई जिससें हर धर्म,जाति व रंग के लोग रहते है। पूरे विश्व में भारत एकमात्र अकेला ऐसा देश है जहां सभी संस्कृतियां पाई जाती है। यहां लोगों में प्यार,साथ व व्यवहार बनाए रखना किसी भी प्रधानमंत्री व देश को संचालित करने वाले लोगों के लिए आसान काम नही है फिर भी आज तक हम ऐसा करने में कामयाब रहें है लेकिन अब कुछ पार्टी व नेता इस स्थिति को खराब करने या यूं कहें कि सौहार्द बिगाड़ने में लगे रहते हैं।

कोई ऐसा नही मिल रहा जिसने इस घटना को लेकर शांति बनाए रखने की अपील की हो। लेकिन हम लेख के माध्यम से अपने सिख भाईयों व देश की जनता से अपील करते हैं कि एस घटना सिर्फ एक घटना समझें और कानून पर भरोसा रखें। जब गृहमंत्रालय ने हस्तक्षेप कर दिया तो निश्चित तौर निष्पक्ष कार्यवाई होगी।

हमें स्वयं भी हर घटना का आंकलन करने की क्षमता होनी चाहिए। हमें अपना अच्छा बुरा देखने की ताकत होनी चाहिए क्योंकि बदलते परिवेश की राजनीति में हर कोई हमारा फायदा उठाना चाहता है। यदि हम सब अपने धर्म के साथ खडे रहे तो कानून के साथ कौन खड़ा होगा। जरा सोचिए कानून किसके लिए है? गलत को गलत कहने की क्षमता और सही को सही कहने की ताकत हमेशा अपने साथ रखकर चलनी चाहिए। जिस तरह का निर्णाण हम करेंगे वैसा ही भविष्य हमारे बच्चों को मिलेगा।इसलिए हर कदम सबकुछ मध्यनजर रखते हुए रखना होगा।
-योगेश कुमार सोनी

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top