आम जनता के साथ शिष्टाचार से पेश आए पुलिस : मनोहर

0
Police Treated Courtesy

Police Treated Courtesy | पुलिस का जनता में विश्वास बढ़ाने को जरूरी है यह व्यवहार

गुरुग्राम(संजय मेहरा/सच कहूँ)। पुलिस अगर विपत्ति में जनता का साथ, जनता की मदद चाहती है तो आम जनता के साथ पुलिस शिष्टाचार (Police Treated Courtesy)से पेश आए। तभी जनता का पुलिस में विश्वास बढ़ेगा। जनता के साथ पुलिस मित्रवत यानी मित्रता का व्यवहार करे। देशभर के पुलिस अधीक्षकों को यह पाठ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गुरुग्राम में पढ़ाया। वे सेक्टर-44 स्थित एपी सेंटर में तृतीय युवा पुलिस अधीक्षक सम्मेलन तथा द्वितीय पुलिस एक्सपो के समापन अवसर पर पहुंचे थे।

मित्रवत व्यवहार करने के लिए पुलिस अधिकारियों के माध्यम से कही यह बात

सीएम ने कहा कि जब तक जनता की खुशहाली सुनिश्चित नहीं करेंगे, तब तक देश आगे नहीं बढ़ सकता। उद्योगों की स्थापना तथा व्यापार के लिए भी शान्तिपूर्ण माहौल आवश्यक है। देश को 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनोमी क्लब में शामिल होना है। उसके लिए वातावरण शान्तिपूर्ण (Police Treated Courtesy)होना जरूरी है। उन्होंने कहा कि विदेशी निवेशक तथा देश में भी उद्यमी उसी राज्य में निवेश करने जाएंगे, जहां का ईज आॅफ डूइंग बिजनेस अच्छा होगा और जिस प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहतर होगी। मुख्यमंत्री ने पुलिस की कार्यशैली को सरकार की कार्यप्रणाली का आईना बताते हुए कहा कि स्मार्ट पुलिसिंग भी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट का एक हिस्सा था। स्मार्ट पुलिसिंग से तात्पर्य है, ऐसी पुलिस जो चौकन्नी, प्रशिक्षित, संवेदनशील, जिम्मेदार व पारदर्शिता से काम करे।

साइबर क्राइम नई चुनौतियां

मुख्यमंत्री ने साइबर क्राइम को नई चुनौती बताते हुए कहा कि इसके समाधान के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का प्रयोग किया जा सकता है। हरियाणा में दो साइबर क्राइम के सैल हैं, जिनमें से एक गुरुग्राम तथा दूसरा पंचकूला में हैं। गुरुग्राम में डाईटैक तथा जीपीएस आधारित इंटीग्रेटिड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर भी हैं, जिसमें 35 हजार सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से कानून व्यवस्था पर नजर रखी जा रही है। सीएम मनोहर लाल ने बताया कि हरियाणा प्रदेश में लगभग 2 लाख सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं तथा एक लाख और सीसीटीवी कैमरे लगाकर दूसरे शहरों में भी कमांड एंड कंट्रोल सेंंटर स्थापित किए जाएंगे।

बुराइयों को छोड़ें

उन्होंने युवा पुलिस अधीक्षकों से कहा कि हमारी व्यवस्था पुरानी है, जिसमें अच्छाइयां भी हैं और बुराइयां भी। अच्छाइयों को अपनाएं और बुराइयों को त्याग दें। व्यवस्था में खराबी को दूर करने के लिए विल पावर अर्थात इच्छाशक्ति की जरूरत होती है। मुख्यमंत्री ने उदाहरण के साथ समझाया कि समाज में व्यवस्था ठीक करते समय अलर्ट रहे, कहीं बुराइयां आप पर हावी ना हो जाएं। उन्होंने कहा कि बुराइयां भर्ती के स्तर से शुरू होती है।

इस अवसर पर गुरूग्राम के विधायक सुधीर सिंगला, पटौदी के विधायक सतप्रकाश जरावता, बादशाहपुर के विधायक राकेश दौलताबाद, सोहना के विधायक संजय सिंह, भाजपा जिला अध्यक्ष भूपेन्द्र चौहान, जीएमडीए के सीईओ वी एस कुंडु सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।