प्रदेश में शुरू होगी पशु संजीवनी मोबाइल डिस्पेंसरी

0
Pashu Sanjeevni

बीमार पशुओं के उपचार के लिए पशुपालकों को घर-द्वार पर ही मिलेगा ईलाज

करनाल(सच कहूँ/विजय शर्मा)। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि प्रदेश में बीमार पशुओं के उपचार के लिए पशुपालकों के घर-द्वार पर ही ईलाज के लिए पशु संजीवनी सेवा के नाम से मोबाईल डिस्पेंसरी शुरू की जाएगी तथा डेयरी फार्मिंग को एक बड़े व्यवसाय रूप में स्थापित करने के लिए प्रति व्यक्ति दूध उपलब्धता की 1087 ग्राम की मात्रा को बढ़ाकर देश में पहला स्थान हासिल करने के प्रयास किए जा रहे हैं। अब पंजाब 1115 ग्राम दूध की प्रति व्यक्ति उपलब्धता से पहले नम्बर पर है।

एनडीआरआई में चल रही 37वीं पशु प्रदर्शनी में सीएम मनोहर लाल ने की घोषणा

मुख्यमंत्री शनिवार को एनडीआरआई के मैदान में आयोजित 37वीं पशु प्रदर्शनी के दूसरे दिन बतौर मुख्य अतिथि पशुपालकों को संबोधित कर रहे थे। इससे पूर्व उन्होंने ऊंट की सवारी करके मेले में लगी प्रदर्शनी का अवलोकन किया और पशुपालकों से मिलकर उनका अभिवादन स्वीकार किया। मुख्यमंत्री ने रैम्प शॉ करते हुए पशुओं का प्रदर्शन भी देखा और इसके लिए पशुपालकों को बधाई भी दी। वहीं कार्यक्रम में उपस्थित सांसद संजय भाटिया ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि हरियाणा सरकार पशुधन विकास और पशुपालकों को प्रोत्साहन देने के लिए तेजी से कदम बढ़ा रही है। एनडीआरआई में आयोजित पशु मेला के संदर्भ में उन्होंने कहा कि एनडीआरआई का नाम देश में ही नहीं, विदेश में भी विख्यात है।

प्रदेश में बढ़ेगा दूध उत्पादन, लगेंगे संयंत्र

मुख्यमंत्री ने कहा कि दूध उत्पादन के क्षेत्र में पंजाब के बाद हरियाणा दूसरे स्थान पर है, जहां प्रति व्यक्ति दूध उपलब्धता 1115 ग्राम है और हमें प्रयास करने होंगे कि हम पहले नम्बर पर आएं। हरियाणा सरकार इसके लिए सकारात्मक कार्य कर रही है। उन्होंने बताया कि दूध उत्पादन से आमदनी बढ़ाने के लिए प्रदेश में नए-नए संयंत्र लगाए जाएंगे। इनमें दूध को कई दिनों तक संरक्षित रखने के लिए टैट्रा पैक का प्रोजैक्ट होगा। कोई भी व्यक्ति जरूरत पड़ने पर पैकिंग में उपलब्ध दूध को खरीद सकेगा। इसी प्रकार दूध को ठंडा रखने के लिए बड़े-बड़े मिल्क कूलर लगाए जाएंगे। हिसार में इंडो-इजराईल सहयोग से एक अन्य संयंत्र लगाया जाएगा।

अच्छी नस्ल की पैदा की जाएंगी बछड़ियां

मनोहर लाल ने कहा कि जल्द ही प्रदेश में ब्राजील से लाई गई पशु गभार्धान की नई तकनीक सैक्स सोर्टिड सीमन से 80 से 90 प्रतिशत बछड़ियां पैदा होंगी। प्रदेश में इसका सफल प्रयोग किया जा चुका है। इस सीमन की कीमत पहले प्रदेश में 800 रुपये प्रति गभार्धान थी, अब पशुपालकों के हित को देखते हुए इसकी कीमत 200 रुपये रखी गई है जो देश में सबसे कम है। इससे आने वाले समय में अच्छी नस्ल अधिक बछड़ियां से दूध का उत्पादन बढ़ेगा जिससे किसान की आय भी बढ़ेगी।

बरसात से खराब हुई फसल की करवाई जाएगी गिरदावरी, न घबराये किसान

मुख्यमंत्री ने पत्रकारों के भारी वर्षा के कारण फसल के खराबे के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इसके लिए गिरदावरी के निर्देश दिए गए हैं। यह प्राकृतिक आपदा है, हरियाणा सरकार हरसंभव किसानों के साथ खड़ी है। किसानों को इसकी चिंता करने की जरूरत नहीं। उनके उचित नुकसान की भरपाई की जाएगी।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।