प्रेरणास्त्रोत : मालिक और ग्राहक

0
Henry-Ford
Henry-Ford

सादगी और हाजिरजवाबी के लिए मशहूर थे हेनरी फोर्ड  (Customer Owner)

विश्वप्रसिद्ध फोर्ड कार के निर्माता अमेरिकी उद्योगपति हेनरी फोर्ड अपनी सादगी और हाजिरजवाबी के लिए मशहूर थे। उन्होंने कार की एक बड़ी कंपनी स्थापित की थी लेकिन खुद बहुत ही साधारण जीवन जीते थे। अपने कर्मचारियों के प्रति उनका व्यवहार भी काफी मधुर था। एक बार वह किसी निजी काम से लंदन गए। लोगों को यह जानकर आश्चर्य हुआ कि वह फोर्ड में नहीं बल्कि रॉल्स रॉयस कार में घूम रहे थे। पर किसी ने इस बारे में उनसे कोई सवाल नहीं किया। लेकिन इंग्लैंड के सम्राट जॉर्ज पंचम ने उनसे पूछ ही लिया, ‘क्यों जनाब, आप अपनी कार के विज्ञापन में लिखते हैं कि फोर्ड संसार की सबसे अच्छी कार है लेकिन यहां तो आप अपनी कंपनी की बजाय दूसरी कंपनी की कार में घूम रहे हैं। क्या यह थोड़ा अटपटा नहीं लगता?’

मैं इस स्टैंड पर कायम हूं

इस पर फोर्ड साहब ने मुस्कराते हुए कहा, ‘महोदय, मैं इस बात को तो अब भी कहता हूं कि मेरी कार विश्व की सबसे बढ़िया कार है। मैं इस स्टैंड पर कायम हूं। लेकिन क्या बताऊं अपने मैनेजर को मैं कई बार कह चुका हूं कि मुझे अपने इस्तेमाल के लिए एक फोर्ड कार चाहिए, पर हर बार वह यही कहता है कि कार तैयार होते ही बिक जाती है। अब मैं अपने ग्राहक को दूं या अपने मालिक को? यही कारण है कि मैं अपनी कार में घूम नहीं पाता और बाजार में बिक रही सेकेंड बेस्ट कार रॉल्स रॉयस में सफर करता हूं। फोर्ड का यह जवाब सुनकर जॉर्ज पंचम उनका मुंह ताकते रह गए। बाद में जब लोगों तक यह प्रसंग पहुंचा तो उन्होंने समझ लिया कि फोर्ड की सफलता का कारण क्या है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।