जनहित को आगे रखकर कार्य करें अधिकारी : मुख्यमंत्री मनोहर लाल

0
manohar lal khattar

नवचयनित अधिकारियों का ज्वाइंट फाउंडेशन कोर्स संपन्न

(Joint foundation course)

  • 136 अधिकारियों ने सीखी कार्यप्रणाली की बारीकियां

गुरुग्राम (सच कहूँ/संजय मेहरा)। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि नवचयनित हरियाणा सिविल सेवा-2020 के अधिकारी जनहित को सामने रखकर काम करें। उन्होंने इन अधिकारियों को तीन आई अर्थात् इंटीग्रिटी, इन्वोल्वमेंट तथा इन्नोवेशन का मंत्र देते हुए कहा कि उनकी भर्ती ‘बिना पर्ची, बिना खर्ची’ से हुई है, इसलिए उनसे शुद्धता की अपेक्षा की जाती है। (Joint foundation course) वे सोमवार को गुरूग्राम के हरियाणा लोक प्रशासन संस्थान (हिपा) में हरियाणा सिविल सेवा 2020 के चयनित अधिकारियों के ज्वाइंट फाउंडेशन कोर्स के समापन अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

हिपा में एचसीएस के चयनित अधिकारियों का यह पहला ज्वाइंट फाउंडेशन कोर्स आयोजित किया गया, जिसमें 136 अधिकारी शामिल हैं।इनमें 45 एचसीएस एग्जीक्यूटिव, 7डीएसपी, 12 ईटीओ, 34 एईटीओ , 19 तहसीलदार, 4 एआरसीएस, 8 बीडीपीओ, 2 ट्रैफिक मैनेजर, 5 डीएफएसओ शामिल हैं। इनका यह कोर्स 27 जनवरी को शुरू हुआ था, जिसका आज समापन हुआ।

टीम वर्क से करें कार्य

टीम का अर्थ समझाते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अपने कार्यालय के कार्यों की लिस्ट बनाकर टीम में बांट दें और जहां कमजोरी दिखाई देती हो वहां पर स्वयं लीड लें। इससे कार्यालय के कर्मचारियों में उनके प्रति विश्वास बढ़ेगा कि हमारा आॅफिसर हमारा ध्यान रखता है। तीसरा मंत्र इन्नोवेशन का देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नए-नए विषय जैसे आईटी का प्रयोग आदि इन दिनों आ रहे हैं, उनका प्रयोग करते हुए जनता की बेहतर ढंग से सेवा करें।

जन आकांक्षाओं पर उतरें खरे

उन्होंने कहा कि अधिकारी के तौर पर सेवा करते हुए उनके सामने कई प्रकार की परिस्थितियां आएंगी, परंतु उन परिस्थितियों में अपने आप पर कंट्रोल रखते हुए नियम और नीतियों के तहत काम करें। आप शुद्धता व स्वच्छ प्रशासन में आगे बढ़े। जन आंकाक्षाओं को पूरा करने के लिए नियम और नीतियों का पालन करते हुए रास्ता निकालने की कोशिश करें।

बेहतर सुझाव से पीछे न हटें

मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कहीं नियम या कानून में सुधार अथवा संशोधन करके राहत पहुंचाई जा सकती है तो निडर होकर इसके बारे में अपने उच्च अधिकारियों को सुझाव भी दें। उन्होंने यह भी कहा कि आप सिस्टम में मजबूती के साथ जाएंगे तो कठिनाई नहीं आएगी, आप में दृढ़ संकल्प व इच्छा शक्ति होनी चाहिए।

टैलेंट से आगे बढ़ो

मुख्यमंत्री ने स्वयं का उदाहरण देते हुए नवनियुक्त अधिकारियों को बताया कि नया करने वालों को लोग लंबे समय तक याद रखते हैं। उन्होंने बताया कि मेरे जीवन में भी आंकाक्षा थी, मन में संकल्प था कि जीवन में लोगों के लिए कुछ करना है और इसी आकांक्षा के कारण आज यहां तक पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि हर किसी को अपने टैलेंट से आगे बढ़ने की आकांक्षा को तलाशते रहना चाहिए। उन्होंने सरदार वल्लभ भाई पटेल के कथन की याद दिलाते हुए कहा कि सरदार पटेल ने एक बार कहा था कि भारतीय प्रशासनिक सेवा तथा राज्य सिविल सेवा सिस्टम का स्टील फ्रेम होता है, इसलिए जनहित को सामने रखकर चलोगे तो आगे बढ़ोगे।

इस मौके पर हिपा के अतिरिक्त निदेशक तथा कोर्स डायरेक्टर एम.डी. सिन्हा, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार अमित आर्य, भाजपा जिला अध्यक्ष भूपेन्द्र चैहान, गुरूग्राम के पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल, मंडलायुक्त अशोक सांगवान, नगर निगम आयुक्त विनय प्रताप सिंह, उपायुक्त अमित खत्री, हिपा की अतिरिक्त निदेशक रेखा दहिया सहित कई अधिकारीगण उपस्थित थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।