अब गरीब बच्चों को मिलेगी अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा

0
Government-schools-of-Harya

सराहनीय। संस्कृति मॉडल स्कूलों की मान्यता सीबीएसई से होगी, पंजीकरण शुरू (Government schools of Haryana)

  • भिवानी जिले में सात स्कूल बने संस्कृति मॉडल स्कूल

भिवानी (सच कहूँ/इन्द्रवेश दुहन)। प्रदेश सरकार द्वारा हरियाणा के सरकारी स्कूलों में प्राईवेट स्कूलों की तर्ज पर शिक्षा देने के लिए योजना तैयार की गई है, जिसके तहत मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने खंड स्तर पर सरकारी स्कूलों को मॉडल स्कूल बनाने की घोषणा की थी, जिसके तहत भिवानी के सेठ किरोड़ीमल राजकीय सीनियर सैकेंडरी स्कूल का चयन मॉडल स्कूल के रूप में चयन हुआ है। इस योजना के तहत अब प्राईवेट स्कूलों की तर्ज पर सरकारी स्कूलों में आर्थिक रूप से कमजोर अभिभावक अपने बच्चों को अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा दे सकेंगे।

इसके तहत प्रदेश के सभी 136 खंडों में संस्कृति मॉडल स्कूल खोले गए हैं। इसके तहत भिवानी जिले के सात खंडों में कुल सात स्कूलों को संस्कृति मॉडल स्कूल बनाया गया हैं। इन स्कूलों को मान्यता भी सीबीएसई से दिलवाई जाएगी। इनमें दाखिलों के लिए पंजीकरण शिक्षा विभाग ने शुरू कर दिया हैं। इन स्कूलों के खुलने से अब आर्थिक रूप से कमजोर अभिभावक अपने बच्चों को प्राईवेट स्कूल की तर्ज पर अंग्रेजी माध्यम से अपने बच्चों को पढ़ा पाएंगे।

आगामी सत्र 2020-21 में दाखिले आरंभ कर दिए जाएंगे

भिवानी के सेठ किरोड़ीमल राजकीय सीनियर सैकेंडरी स्कूल का चयन मॉडल स्कूल के रूप में होने के बाद अब यहां लड़कियां व लड़के एक साथ पढ़ेंगे। वहीं इस स्कूल में अब अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाई करवाई जाएगी, जिसका आगामी सत्र 2020-21 में दाखिले आरंभ कर दिए जाएंगे। इन अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा विंग की कक्षाएं अप्रैल-2021 से आरंभ होगी। सभी राजकीय मॉडल विद्यालय सीबीएसई से मान्यता प्राप्त होंगे। इन विद्यालयों में अध्यापक स्पेशल स्क्रीनिंग प्रोसेस के तहत लगाए जाएंगे, जिन्हें विशेष प्रशिक्षण देकर अंग्रेजी माध्यम से पढ़ाने के लिए तैयार किया जाएगा। इन स्कूलों में अभिभावक 200 रुपए से 500 रुपए प्रति माह डिवेल्पमेंट फीस भरकर अपने बच्चों को पढ़ा पाएंगे तथा दाखिला के लिए भी मात्र 500 से हजार रुपए देने होंगे।

इस बारे में सेठ किरोड़ीमल राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के प्राचार्य शिव कुमार तंवर ने बताया कि भिवानी के राजकीय स्कूल का चयन मॉडल स्कूल के रूप में हुआ है। अब इस विद्यालय में हिंदी एवं अंग्रेजी माध्यम की कक्षाएं होंगी, लेकिन अंग्रेजी माध्यम के शैक्षिक शेविंग में दाखिला तथा मासिक फीस ली जाएगी। उन्होंने बताया कि नियम 134 के तहत विशेष आरक्षण का प्रावधान भी इन विद्यालय में होगा। उन्होंने बताया कि अब मॉडल स्कूल में आगामी सत्र 2020-21 में दाखिले आरंभ कर दिए जाएंगे।

आर्थिक तंगी से गुजर रहे निजी स्कूलों को दी जाए राहत

प्राईवेट स्कूल संघ ने सरकार पर लगाया वायदा खिलाफी का आरोप
कहा : सत्ता में आने से पूर्व सरकार ने राहत देने का किया था वायदा

भिवानी (सच कहूँ न्यूज)। अपनी मांगोंं के समर्थन में हरियाणा प्राइवेट स्कूल संघ के पदाधिकारियों की बैठक स्थानीय श्रीमती दुर्गा देवी हाई स्कूल बैंक कॉलोनी में बवानीखेड़ा के प्रधान बजरंग चौहान की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों ने 3200 स्कूलों को कोरोना जैसी महामारी के समय एक्सटेंशन जल्द से जल्द दी जाने, आर्थिक तंगी से जूझ रहे प्राईवेट स्कूलों को राहत प्रदान करने की मांग की गई। उन्होंने कहा कि जजपा नेता दिग्विजय चौटाला ने प्राईवेट स्कूलों द्वारा दिये गए धरने पर पहुंचकर उन्हें उनकी मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया था, लेकिन आज सरकार के साथ गठबंधन होते ही वे अपने द्वारा किए गए सभी वायदों को भुल गए हैं।

उन्होंने आश्वासन दिया था कि अस्थाई स्कूलों को एक कमरे के हिसाब से मान्यता दी जाएगी। किन्तु अब सरकार स्कूलों के विरुद्ध कोर्ट में जा खड़ी हुई है। उन्होंने सरकार के इस रवैये के खिलाफ निंदा प्रकट करते हुए कहा कि उनके इस रवैये से शिक्षक समाज बहुत उपेक्षित महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा कि एक शिक्षक समाज का अति महत्वपूर्ण अंग है वह अभी तक शांत भाव से बैठा है। सरकार उसे और ज्यादा पैचदगियों में न ही डालें तो अच्छा होगा। बैठक में प्रधान सतीश तंवर, मनोज सैनी, पृथ्वी सैनी, अजीत शेखवात, बी.के. शर्मा, सतीश प्रजापति, जितेंद्र कौशिक, बजरंग चौहान, दयानंद बाजल एवम अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।