अब सरसा जिले में प्रत्येक घर को मिलेगा शुद्ध पेयजल

0
Pure-drinking-water

प्रथम चरण में 191 गाँवों में पाइप लाइन बिछाने, नलकूप और टैंक निर्माण का होगा कार्य

  • 19 गाँवों में पेयजल व्यवस्था सुधारने पर खर्च होंगे 490.1 लाख रुपए

सच कहूँ/सुनील वर्मा सरसा। ग्रामीण आंचल में रहने वाले जिले के प्रत्येक परिवार को शुद्ध पेयजल की आपूर्ति की जाएगी। जल जीवन मिशन के तहत प्रथम चरण में 192 गांवों में शुद्ध पेयजल मुहैया करवाया जाएगा। जिसके तहत पाइप लाइन बिछाने और नलकूप व टैंक के निर्माण कार्य किया जाएगा। जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग की तरफ मांगे गये प्रस्ताव के आधार पर 19 गांवों में पेयजल व्यवस्था को सुधारने के लिए 490.1 लाख रुपये की राशि स्वीकृत कर दी गई है। इसी के तहत 92 गांवों के प्रस्ताव तैयार कर करीब 10 करोड़ रुपये की राशि मांगी गई है। इसी के साथ पांच गांवों में करीब 15 करोड़ रुपये की लागत से पेयजल केंद्र व मरम्मत के कार्य किए जाएंगे।

शुद्ध पेयजल के लिए ये किया जाएगा

जल जीवन मिशन के तहत 2024 तक सभी घरों में शुद्ध पेयजल पहुंचने का लक्ष्य रखा गया है। जिसको लेकर 192 गांवों में जिन घरों तक पेयजल सप्लाई लाइन नहीं है। पेयजल लाइन बिछाने का कार्य किया जाएगा। इसी के साथ पेयजल सप्लाई पाइप लाइन जहां से लीकेज है। लीकेज को ठीक करने का कार्य किया जाएगा। इसी के साथ जिन पेयजल केंद्रों में मरम्मत की जरूरत है। उनमें मरम्मत करने का कार्य किया जाएगा। जिन गांवों में पेयजल केंद्र नहीं है व कंडम हो चुके हैं। ऐसे गांवों में नये पेयजल केंद्रों का निर्माण कार्य किया जाएगा।

ग्राम पंचायतें वसूलेंगी चार्ज

पेयजल योजनाओं को स्थापित करने के बाद उसे जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग द्वारा ग्राम पंचायतों को हैंड ओवर कर देगा। फिर रखरखाव व पंप आपरेटर के वेतन आदि के लिए ग्राम पंचायतें प्रत्येक परिवार से हर महीने 50 रुपये वाटर चार्ज वसूल करेंगी। जिससे पेयजल व्यवस्था का रखरखाव के बजट से किया जा सके।

1515 लाख रुपये की लागत से बनेंगे पेयजल केंद्र

जनस्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग द्वारा शुद्ध पेयजल सप्लाई देने के लिए पांच गांवों में पेयजल केंद्र व पेयजल केंद्रों में मरम्मत का कार्य किया जाएगा। जिसके तहत पेयजल केंद्र गांव बप्पा में 307 लाख रुपये की लागत से निर्माण कार्य किया जाएगा। गांव कमाल में 216.25 लाख रुपये, गांव वीरुवालागुढ़ा में 120.25 लाख रुपये व गांव फुलकां में 145.50 लाख रुपये की लागत से पेयजल केंद्र का निर्माण किया जाएगा। डिंग गांव में 726 लाख रुपये की लागत से बड़े बुस्टिंग स्टेशन बनाए जाएंगे। जिससे डिंग मंडी व गांवों में शुद्ध पेयजल मुहैया करवाया जा सके।

19 गांवों में 490 लाख रुपये से सुधरेगी व्यवस्था

जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग द्वारा 19 गांवों में पेयजल व्यवस्था सुधारने के लिए बजट जारी कर दिया है। इन गांवों में 490 लाख रुपये की राशि पेयजल सप्लाई पाइप लाइन बिछाने, पेयजल सप्लाई पाइप लाइन बदलने व अन्य मरम्मत कार्य किए जाएंगे। जिसके तहत गांव रोहन, मुसली, मौजदीन, गिदड़ावाली, पाना, अमृतसर कलां, चक साहिबा, रामपुर थेहड़ी, फिरोजाबाद, हारनी खुर्द, दमदमा, खाजा खेड़ा, केहरवाला, थेहड़ी बाबा सावन सिंह, रंगड़ी खेड़ा, सहारनी व किंगरे गांव शामिल है।

‘‘जल जीवन मिशन के तहत शुद्ध पेयजल पहुंचने के लिए कार्य शुरू किया हुआ है। प्रथम चरण में 192 गांवों में पेयजल व्यवस्था सुधारने के लिए प्रस्ताव तैयार कर भेजे गये हैं। इसी के तहत 19 गांवों के लिए बजट राशि जा रही हो चुकी हैं।
-आरएस मलिक, नोडल अधिकारी, जल जीवन मिशन, अभियांत्रिकी विभाग, सरसा।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।