MSG Health Tips: आपका दिल हमेशा रहेगा सेहतमंद

0
MSG-Health-Tips

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए दिल का स्वस्थ होना बहुत जरूरी है। लेकिन वर्तमान में अनियमित दिनचर्या के कारण उच्च रक्तचाप और निम्न रक्तचाप की समस्या बढ़ रही है। सामान्य: ब्लड प्रेशर 120/80 होता है। किसी कि शरीर में रक्त प्रवाह सामान्य से कम (80 से कम) हो जाता है तो उसे लो ब्लड प्रेशर कहते है और यह रक्त प्रवाह 130 से बढ़ जाता है तो उसे हाई ब्लड प्रेशर कहते हैं।

उच्च रक्तचाप की स्थिति में

धमनियों में रक्त का दबाव बढ़ने से रक्त प्रवाह बढ़ जाता हैं, इसे सामान्य लाने के लिए दिल को सामान्य से अधिक काम करने की आवश्यकता पड़ती हैं। इसलिए दिल की धड़कन बढ़ जाती है जिसके कारण उल्टी, सिर दर्द व चिड़चिड़ापन शुरू हो जाता है। कुछ लोग इसे नजरअंदाज करते रहते है तो कई डॉक्टरों के चक्कर लगातें रहते है। हम कु छ घरेलू उपाय अपनाकर इस पर काफी सीमा तक कंट्रोल कर सकते है।

लहसुन

लहसुन आपके शरीर में कॉलेस्ट्रॉल का स्तर कम करता है, इससे आपका दिल हमेशा सेहतमंद रहता है।

नमक का सेवन कम करें

नमक का अधिक सेवन करने से उच्च रक्तचाप का खतरा बढ़ जाता है। रक्तचाप कम करने के लिए अपने भोजन में नमक की मात्रा कम करनी चाहिए। डाक्टरों का मानना है कि नमक में मौजूद सोडियम की अधिक मात्रा उच्च-रक्तचाप का कारण होती है।

आलू का सेवन

आहार में पोटेशियम युक्त फलों व सब्जियों को शामिल करने से आप रक्तचाप को कम कर सकतें हैं। पोटेशियम की नियमित मात्रा के सेवन से आप स्वयं को उच्च रक्तचाप से दूर रख सकते है। आलू के साथ-साथ शकरकंदी, टमाटर, संतरे का रस, केला, राजमा, नाशपाती, किशमिश, सूखे मेवे और तरबूज आदि में पोटेशियम काफी मात्रा में होता है।

संगीत

संगीत आपके रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। यदि आप धीमी आवाज में मधुर संगीत सूनें तो आपको उच्च रक्तचाप में आराम मिलता है। रूहानी भजन जहाँ आपको शारीरिक स्फूर्ति प्रदान करेंगे, वही आपकी आत्मा को भी ताजगी प्रदान करेंगे।

आराम है जरूरी

बेशक जीवन में कामयाबी के लिए काम करना जरूरी है लेकिन आराम की अहमियत को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। दिन-रात पैसे बनाने की मशीन की तरह लगे रहना आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक हो सकता है। कम-से-कम 5-8 घंटे की नींद अवश्य लें।

बी.पी. कम होने की स्थिति

रक्तचाप कम होना, मतलब ब्लड का प्रवाह कम होना है। इस स्थिति को गंभीरता से ना लिया जाए तो इसका असर शरीर के दूसरे अंगो पर भी पड़ सकता है। क्योंकि शरीर में ब्लड का दबाव कम होने के कारण रक्त आवश्यक अंगोें तक नही पहुँच पाता जिससे उनके कार्यों मे बाधा पहुँचती है। ऐसे में दिल, किडनी, फेफड़े और दिमाग आंशिक रूप से या पूरी तरह से काम करना भी बंद कर सकते है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।