विधायक सुखजीत पर हमला करने के पांच आरोपी गिरफ्तार, अदालत ने एक दिन के रिमांड पर भेजा

0
MLA Sukhjeet, Attack Case

एक दिसंबर को शादी समारोह में फायरिंग के दौरान हुई थी कर्ण की मौत, कुल 84 लोगों के खिलाफ किया था मामला दर्ज | MLA Sukhjeet Attack Case

मोगा/धर्मकोट (सच कहूँ न्यूज)। मोगा पुलिस ने चार दिन पहले सिविल अस्पताल में विधायक पर हमले (MLA Sukhjeet Attack Case) के पांच आरोपियों को गिरफ्तार करके शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया। अदालत ने इन सभी को एक दिन के रिमांड पर भेज दिया है। डीएसपी रविन्द्र सिंह ने कहा कि वीडिया से वैरीफाई कर पांच लोगों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया गया। धर्मकोट के विधायक 2 दिसंबर को कोट ईसे खां के युवक की हत्या के बाद उसके परिजनों से मिलने अस्पताल पहुंचे थे। वहां लोगों ने विधायक पर हमला कर दिया था और उन्हें भागकर जान बचानी पड़ी थी। बाद में पुलिस ने इस संबंध में 84 लोगों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया था, जिनमें 4 नामजद और बाकी 80 अज्ञात थे। पुलिस ने घटना के समय मीडिया कर्मियों व आम लोगों द्वारा बनाए गए वीडियो को देखकर हमलावरों की पहचान की।

पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे विधायक सुखजीत पर भीड़ ने किया था हमला

कस्बा कोट ईसे खां के चीमा रोड निवासी गुरसेवक सिंह ने पुलिस को बताया था कि 1 दिसंबर की रात को मोगा जिले के गांव मस्तेवाला में मेजर सिंह के बेटे निरवैर सिंह की शादी में जागो और डीजे का प्रोग्राम बुक था। वह चचेरे भाइयों जसविंदर सिंह, कर्ण सिंह उर्फ गोरा के साथ गया था। रात 10 बजने के बाद उसने सरकारी आदेश अनुसार डीजे नहीं बजाने की बात कही तो नशे की हालत में नाच रहे युवकों ने उसे थप्पड़ मारे।

साथ ही गोली मार देने की धमकी देकर 10-15 लोग पंजाबी गानों पर हवाई फायर करने लगे। इन लोगों ने करीब 150 फायर किए। इसमें उसके भाई कर्ण की जान चली गई थी। इसके बाद आरोपी पक्ष के लोग मामले को रफा-दफा करने के लिए 5 लाख रुपए देने की बात करने लगे। दूसरे तरीके से भी दबाव बनाया गया। उन्होंने एक घंटे तक बरामदे में पड़े कर्ण के शव को नहीं उठाने दिया।

यहां से छिड़ा था विवाद | MLA Sukhjeet Attack Case

  • अगले दिन 2 दिसंबर को हलका धर्मकोट के विधायक काका सुखजीत सिंह लौहगढ़
    मृतक युवक के परिवार से मिलने मोगा के सिविल अस्पताल पहुंचे।
  • वहां सहानुभूति प्रगट करते हुए बोल दिया कि ऐसी घटनाएं होती रहती हैं।
  • पुलिस व सरकार अपना काम कर रही है।
  • बस फिर क्या था, वहां बवाल मच गया और भीड़ ने विधायक पर हमला बोल दिया।
  • चालक स्वर्ण सिंह ने सूझबुझ से गाड़ी हमलावरों के बीच से निकालकर विधायक को बचा लिया।

पांच के अलावा 80 अज्ञात हमलावारों पर केस दर्ज

पुलिस ने नौजवान भारत सभा के कर्मजीत सिंह कोट कपूरा, ग्रामीण मजदूर यूनियन के महासचिव मंगा सिंह, ज्महूरियत अधिकार सभा के दर्शन सिंह तूर, लोक संग्राम मंच के तारा सिंह निवासी जीरा रोड मोगा के अलावा 80 अज्ञात हमलावरों के खिलाफ केस दर्ज किया था। इनमें चार नामजद व 80 अज्ञात लोग थे। वीडियो से पहचान के बाद पांच आरोपियों को गिरफ्तार करके कड़ी सुरक्षा में अदालत में पेश किया गया। अदालत ने पांचों आरोपियों को एक दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया है।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करे।