क्षितिज-21 पैरा इवेंट्स को सहयोजित करने वाला पहला सांस्कृतिक उत्सव बना

0
341

मुंबई (सच कहूँ न्यूज)। वर्तमान समय में जहां हर कोई दुनिया के बारे में अपनी राय व्यक्त कर रहा है, वही समाज के विभिन्न उपेक्षित वर्गों की पीड़ा को समझाते हुए उन्हें अपनाना सही मायनों में समय की जरुरत है। इन उपरोक्त कथन के साथ न्याय करते हुए, क्षितिज एसवीकेएम (SVKM) के मीठीबाई कॉलेज (Mithibai College-Mumbai) ने अंतर्राष्ट्रीय इंटरकॉलेजिएट सांस्कृतिक महोत्सव के माध्यम से समाज में समानता की तरफ एक कदम बढ़ाते हुए, इस वर्ष क्षितिज-21 उत्सव (Kshitij-21 Fest) में ‘पैरा इवेंट्स’ को शामिल कर पहली सांस्कृतिक समिति बन चुका है।

यह बात इवेंट के वाईस चेयरपर्सन निश्चल ने मीडिया को जारी विज्ञप्ति में कही। निश्चल ने बताया, इस वर्ष उत्सव में हमारे पास नृत्य, गायन, कहानी के साथ-साथ अद्वितीय पैरा टैलेंट शो व विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम हैं।  भाग्यशाली विजेताओं को 20000 रुपये के नकद पुरस्कार के अलावा रोमांचक उपहारों से सम्मानित किया जाएगा। इसके अलावा, हम कुछ कार्यक्रमों को ऑफलाइन आयोजित करने पर भी काम कर रहे हैं। पैरालिंपिक 2020 (Paralympics) में भारत की टीम द्वारा प्रदर्शन और उत्कृष्टता ने हमें क्षितिज-21 में दिव्यंगों की प्रतिभा को सम्मानित करने के लिए प्रेरित किया।

क्षितिज-21 की यही विशेषता इसे अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों से से अनोखा बनती है। क्षितिज के दौरान आयोजित होने वाले सभी पैरा इवेंट्स में इन प्रतिभागियों की विशेष जरुरत का ध्यान रखा गया है। इसके अलावा, हमारी यह कोशिश है कि मंच पर हर प्रतिनिधि द्वारा दिव्यांग वर्ग के सम्मान का पूरा ध्यान रखा जाये। ऐसा करने में हमारा उद्देश्य उन्हें हर सामान्य सामाजिक गतिविधि में अभिन्न अंग बनाना है, जिससे सभी अनावश्यक दूरियां समाप्त हो सकें। हमने इवेंट के सोशल मीडिया हैंडलस पर एक वीडियो के माध्यम से दिव्यांगों के दिल में छुपे पहलुओं तथा सशक्त भावनाओं की चित्रित करने का प्रयास किया है, जिसे समाज के हजारों लोगों द्वारा सराहा गया, निश्चल ने कहा।

दिव्यांग बच्चों को समाज में उचित स्थान देना लक्ष्य

समावेश के बारे में आईसी प्रिंसिपल, डॉ. कृतिका देसाई ने बताते हुए कहा, “टीम क्षितिज ने जो प्रयास किए हैं, वह आसान काम नहीं है, लेकिन मीठीबाई क्षितिज पूर्णत प्रयास कर रही है व उम्मीद कर रही है कि दिव्यांग बच्चों को समाज में उनका उचित स्थान मिल सके।

‘‘वहीं इवेंट चेयरपर्सन, यशवी गोटेचा ने आयोजनों पर प्रकाश डालते हुए कहा, समाज में बदलाव लाने के लिए ऐसी पहल को सामाजिक सहयोग की बहुत जरुरत है जिससे समाज में परिवर्तन आ सके। हम अपने इवेंट के प्रतिभागियों का हार्दिक तौर पर स्वागत करते हैं तथा उन्हें स्वयं की प्रतिभा खोजने में मदद के लिए प्रतिबद्ध हैं। टीम क्षितिज पूरी उम्मीद करती है कि पैरा इवेंट्स सहयोजित होने वाला यह उत्सव अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में कामयाब होगा और समाज में एकजुटता के नए रास्ते खोलेगा। बता दे इस कॉलेज फेस्ट में सच कहूँ (sachkahoon) मीडिया पार्टनर है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और TwitterInstagramLinkedIn , YouTube  पर फॉलो करें।