सुमिरन का फल अवश्य मिलता है: पूज्य गुरु जी

0
Precious words Meditation and selfless service will eliminate problems Pujya Guru

सरसा। पूज्य हजूर पिता संत डॉ गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां फरमाते हैं कि इस घोर कलियुग में प्रभु का नाम सुखों की खान है। परमपिता परमात्मा के नाम के बिना दुनिया में परेशानियां हैं, दु:ख, तकलीफें, मुश्किलें हैं। केवल प्रभु, ईश्वर, अल्लाह, वाहेगुरु, परमपिता परमात्मा का नाम परमानंद देने वाला है। इसलिए हमेशा प्रभु के नाम का सुमिरन करो। पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि चलते, बैठे, कामधंधा करते जितना भी समय आप सुमिरन कर सकें करते रहना चाहिए। क्योंकि वो किया गया सुमिरन कभी बेकार नहीं जाता, उसका फल लाजमी मिलता ही मिलता है। जब भी आप सुमिरन करेंगे मालिक मंजूर (कबूल) जरूर करेंगे।

पूज्य गुरु जी फरमाते हैं कि अगर सुन्न समाधी में जाना हो, मालिक के नूरी स्वरूप के दर्शन करने हों, तो उसके लिए जरूरी है आप बैठकर सुमिरन करें। सुबह 2 से 5 के बीच में अगर आप सुमिरन करें तो आपके गम, चिंता, परेशानियां दूर होंगी व मालिक के नजारे आने शुरू हो जाएंगे। इसलिए सुमिरन करो, चाहे शारीरिक व्यवस्था क्यों न हो। किया गया सुमिरन मालिक की दरगाह में मंजूर (कबूल) जरूर होता है। इसलिए मालिक को पाने के लिए सुमिरन जरूर करें, जिससे आपकी कमियां दूर होंगी आप मालिक की दया, मेहर रहमत के काबिल बन जाएंगे। सुमिरन करने पर कोई शारीरिक ताकत नहीं लगानी पड़ती। इसलिए मालिक का नाम सुखों की खान कहलाता है, जिसपे पैसा नहीं लगता, धर्म, जात नहीं छोड़नी, अलग तरह का कपड़ा नहीं पहनना बस जीह्वा से ख्यालों से मालिक का नाम जपते रहो तो उसका फल लाजमी मिलेगा ही मिलेगा।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।