Breaking News
   प्रधानमंत्री मोदी ने शरद पवार को दी जन्मदिन की बधाई|    नागरिकता बिल पर बवाल के बीच आज अमित शाह से मिलने दिल्ली आएंगे मेघालय के मुख्यमंत्री |   नागरिकता बिल के खिलाफ ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन भी SC में दाखिल करेगा याचिका |   झारखंड चुनाव: तीसरे चरण में सुबह 9 बजे तक 12.89% मतदान।   असम: नागरिकता बिल के विरोध में बवाल, विस्तारा ने रद्द की कई उड़ानें |
Breaking News

कॉरपोरेट कर कटौती से हुआ 145 हजार करोड़ का नुकसान

Anurag Thakur

सरकार राजस्व तथा व्यय के नियमित आकलन से राजकोषीय घाटे का प्रबंधन करती है।
ठाकुर ने कहा कि 20 सितम्बर 2019 को जारी संशोधन अध्यादेश के माध्यम से
घरेलू कंपनियों पर लगने वाले कर में भी कुछ शर्तों के साथ कटौती की गयी है

वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को एक लिखित प्रश्न के जवाब में दी जानकारी

  • 145 हजार करोड़ रुपए की राजस्व हानि हुई (Anurag Thakur)

नई दिल्ली (सच कहूँ न्यूज)। सरकार ने कहा है कि कराधान अध्यादेश (Anurag Thakur) के तहत कॉरपोरेटरों को कर में दी गयी छूट के कारण देश को 1,45,000 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को एक लिखित प्रश्न के जवाब में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस अध्यादेश के जरिए निवेशकों को आकर्षित करने और निवेश बढ़ाने के वास्ते कर में कटौती का प्रावधान किया गया। कराधान कानून (संशोधन) अध्यादेश, 2019 के तहत कॉरपोरेट कर की दर में कमी और अन्य राहत के कारण 145 हजार करोड़ रुपए की राजस्व हानि हुई है।

2019-20 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य 7,03,760 करोड़ रुपए रखा गया

  • कि नियमित बजट 2019-20 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य 7,03,760 करोड़ रुपए रखा गया है
  • जो सकल घरेलू उत्पाद-जीडीपी का 3.3 प्रतिशत है
  • सरकार राजस्व तथा व्यय के नियमित आकलन से राजकोषीय घाटे का प्रबंधन करती है।
  • कि 20 सितम्बर 2019 को जारी संशोधन अध्यादेश के माध्यम से घरेलू कंपनियों पर लगने वाले कर में भी कुछ शर्तों के साथ कटौती की गयी है।
  • इसके साथ ही घरेलू कंपनियों को यदि लगता है कि रियायती कराधान प्रणाली उसकी कंपनी के लिए लाभकारी है
  • तो वह दरों पर कर लगाए जाने के विकल्प का चयन भी कर सकती है।

सदस्यों की अनुपस्थिति पर नायडू नाराज

राज्यसभा के सभापति एम वेकैंया नायडू ने सोमवार को प्रश्नकाल के दौरान सदस्यों के सदन में उपस्थित नहीं रहने पर नाराजगी व्यक्त की। भोजनावकाश के पहले प्रश्नकाल समाप्त होने पर नायडू ने कहा कि 15 तारांकित प्रश्न पूछे गए थे जिनमें से छह सदस्य अनुपस्थित थे। यह अच्छी बात नहीं है। इसके कारण सदन की कार्रवाई निर्धारित समय से पांच मिनट पहले ही स्थगित कर दी गई। उन्होंने मीडिया से अनुपस्थित सदस्यों के नाम प्रकाशित करने को भी कहा। अनुपस्थित रहने वाले सदस्यों में कांग्रेस के धर्मपुरी श्रीनिवास,समाजवादी पार्टी के रवि प्रकाश वर्मा,तृणमूल कांग्रेस के नदीम उलहक,भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के विनय विश्वम, अन्नाद्रमुक की शशिकला आदि प्रमुख हैं।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करे।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top