हरियाणा

पुलिसवाला ही निकला चोर गिरोह का सरदार

Loot Gang, Arrested, Police, Accused, Haryana

रात को साथियों के साथ मिलकर करता था चोरी

  • एसएसपी ने सख्त कार्रवाई करते हुए किया सस्पेंड, पुलिस ने भेजा जेल

सरसा (सच कहूँ न्यूज)। शहर में रात को मकानों के ताले तोड़कर लाखों रुपयों का सामान और नकदी चुराने की दर्जनभर से अधिक वारदातों को अंजाम देने वाले गिरोह को सीआईए पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

इसमें हैरानी की बात यह है कि पकड़े गए चोर गिरोह का मुखिया कोई और नहीं खुद एक पुलिसकर्मी है। जिले के नेजिया नाके पर तैनात सिपाही ने अपने रिश्तेदारों के साथ मिलकर गिरोह बना रखा था। रात को यह पांच सदस्यीय गिरोह चोरी की वारदातों को अंजाम देता आ रहा था।

पिछले एक वर्ष से शहर में चोरी की वारदातों लगातार यह गिरोह अंजाम दे रहा था। अब सीआईए और चोरी निरोधक सैल की पुलिस ने गिरोह के मुखिया सहित उसके एक साथी को गिरफ्तार कर लिया है। बाकी तीन साथियों की भी पहचान कर ली गई है।

पकड़े गए गिरोह के सदस्यों ने शहर में करीब एक दर्जन चोरी करने की वारदातों को स्वीकार कर लिया है। इधर एसएसपी सतेंद्र कुमार गुप्ता ने सख्त कार्रवाई करते हुए पकड़े गए पुलिसकर्मी को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है।

ड्यूटी के बाद रात को करता था वारदात

सीआईए थाना प्रभारी राजाराम ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से उनकी टीम और चोरी निरोधक सैल के इंचार्ज रणसिंह इस गिरोह की तलाश में जुटे हुए थे। दुकान में मोबाइल चोरी की वारदात को अंजाम देने के सिलसिले में एक युवक को शक के आधार पर गिरफ्तार किया।

उससे पूछताछ की तो यह सारा राज खुल गया। सीआईए थाना प्रभारी राजाराम ने बताया कि वर्तमान में जिले के नेजिया पुलिस नाके पर तैनात सिपाही सुरेश कुमार मूलरूप से निवासी गांव दायमा हिसार ने यह गिरोह बनाया हुआ था।

यह सरसा में कीर्तिनगर मोहल्ले में रहता है। इसने अपने साथ ही लिव इन रिलेशनशिप में रह रही महिला के बेटे विकास, महिला के भाई रणजीत व पुलिस लाइन में टेलर के पास कारीगर के रूप में कार्य कर रहे धर्मवीर निवासी फतेहाबाद व प्रीतम नामक युवक के साथ मिलकर गिरोह बनाया था।

सुरेश कुमार दिन में ड्यूटी करता था। रात को अपने साथियों के साथ बंद मकानों के ताले तोड़कर सामान, नकदी और आभूषण चुराता था। इसने पिछले एक साल में एक दर्जन से अधिक वारदातें कर रखी हंै। वहीं इस मामले में एसएसपी सतेंद्र कुमार गुप्ता ने कड़ा संज्ञान लेते हुए इसे सस्पेंड कर दिया है।

अपनी घरवाली को भी दे रहा था धोखा

चोरी की वारदातों को अंजाम देने के अलावा आरोपी सिपाही सुरेश कुमार अपनी घरवाली को भी धोखे में रखे हुए था। उसकी घरवाली हिसार जिले के गांव दायमा में रहती है।

जबकि यह यहां पर किसी अपने ही रिश्तेदार की घरवाली के साथ लिव इन रिलेशनशिप में कीर्तिनगर मोहल्ले में रह रहा था। बताया जाता है कि इस महिला का पति जेल में है। वह अब उसको छोड़कर सुरेश के साथ अपने एक बेटे विकास को लेकर रह रही थी।

इस गिरोह में महिला का बेटा विकास और भाई रणजीत निवासी टोलेवाला पंजाब और एक रिश्तेदार प्रीतम निवासी मामड़िया गांव का भी शामिल था। इसके अलावा पुलिस लाइन में ही टेलरिंग का कार्य सिखने वाला धर्मवीर भी शामिल है, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

ये वारदातें हुई ट्रेस

वर्ष 2016 में दशहरे के दिन चत्तरगढ़ पट्टी निवासी एडवोकेट मंजू पत्नी सोमनाथ के घर में वारदात करके यहां से एक एलईडी, दो गैस सिलेंडर, एक वाशिंग मशीन और हजारों रुपयों का रसोई में रखा सामान चोरी हुआ था।

  • चत्तरगढ़पट्टी क्षेत्र में ही चानण की चक्की के पास एक दुग्ध डेयरी में हुई वारदात भी ट्रेस हुो गई है।
  • यहां से एक एलईडी, सिलेंडर, और घी की चोरी और अन्य सामान चोरी हुआ था।
  • 30 जून 2017 को कीर्तिनगर मोहल्ले में दो मकानों के एक साथ ताले तोड़े गए। यहां से नकदी और आभूषण चुराए गए थे।
  • चत्तरगढ़पटटी क्षेत्र में एडवोकेट विनोद कुमार के घर का ताला तोड़कर सोना और चांदी के जेवरात चुराए थे।
  • डिंग क्षेत्र में एक मोबाइल शॉप का ताला तोड़कर सेंधमारी की।
  • पिछली 5 जुलाई को दयाल सिंह नगर में एक व्यक्ति के घर से 80 हजार रुपये चुराये थे।

एसएसपी ने किया सस्पेंड

चोरी की वारदातों में शामिल पाए गए सिपाही सुरेश कुमार की करतूत की रिपोर्ट जैसे ही एसएसपी सतेंद्र कुमार गुप्ता के पास पहुंची। उन्होंने हमेशा की तरह एक बार फिर कड़ा संज्ञान लेते हुए उसे सस्पेंड कर दिया है।

एसएसपी ने साफ तौर पर पुलिस विभाग के कर्मचारियों को कड़ा संदेश देते हुए कहा है कि किसी भी प्रकार की कोई अपराधिक गतिविधियों में पुलिस के जवान की भूमिका पाई जाती है तो उसे बख्शा नहीं जाएगा।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top