सरसा-ऐलनाबाद व रानियां खंड के एक दर्जन गांवों में टिड्डी दल ने बरपाया कहर

0
Locusts caused havoc in a dozen villages of Sirsa-Ellenabad and Raniyan block

70 प्रतिशत टिडीयों का किया खात्मा, किसानों ने मांगा मुआवजा

सच कहूँ/सुनील वर्मा सरसा। सरसा जिला के ऐलनाबाद व रानियां खंड के करीब दो दर्जन गांवों में टिड्डी दल ने अपना कहर बरपाया है। रात को गावं केसूपुरा में प्रशासन ने विशेष अभियान चलाकर कीटनाशक का स्प्रे कर काफी संख्या में टिड्डियों को मार दिया। इसके इलावा प्रशासन द्वारा उमेदपुरा, कोटली व माधोसिंघाना के खेतों में भी कीटनाशक छिड़कने का अभियान चलाया। इसके बावजूद अभी भी काफी संख्या में टिड्डियां किसानों की परेशानी का सबब बनी हुई है। किसान अपने स्तर पर परिवार के सभी सदस्यों को साथ लेकर थाली, बर्तन, पीपा व धुंआ कर नरमा-कपास की फसल को बचाने में लगे है। बाद दोपहर हवा का रुख बदलने से टिड्डी दल ऐलनाबाद की ओर से होते हुए वापिस राजस्थान के गांवों में प्रवेश कर गया। गौरतलब है कि बीती शाम को राजस्थान के गांव मलवानी की ओर से 1 किलोमीटर चौड़ा और करीब 6 किलोमीटर लंबा टिड्डियों का दल हरियाणा में प्रवेश कर गया था। इस दल ने सरसा जिला के गांव मल्लेकां, माधोसिंघाना, मोडियाखेड़ा, गुडियाखेड़ा, धिंगतानिया, अनरियांवाली, रंगड़ी, टीटूखेड़ा, केसुपुरा, नानकपुर, कुताबढ के साथ कई गांव में फसलों को प्रभावित किया। रात को टिड्डियों का दल केसूपुरा व कुताबढ़ गांव के आसपास खेतों में उतर गया। इसके बाद प्रशासनिक अमले ने खेतों में फायर बिग्रेड व ट्रैक्टरों के माध्यम से कीटनाशक का छिड़काव करवाया। प्रशासनिक अधिकारी कार्य का निरीक्षण करते रहे रविवार सुबह भी जांच की गई। टिड्डियां भारी संख्या में मृत अवस्था में खेतों में पड़ी थी, तब जाकर किसानों ने राहत की सांस ली। मौके पर उपस्थित ऐलनाबाद के तहसीलदार राकेश गुप्ता ने बताया कि रात को शुरू किया गया अभियान सुबह करीब 6 बजे तक चला।
गांव रंगड़ीखेड़ा, शहीदांवाली, मंगाला, माधोसिंघाना में टिड्डी दल नजर आने की सूचना मिली। सूचना मिलते ही उपायुक्त रमेश चंद्र बिढ़ान स्वयं बचाव टीमों की आगवानी करते हुए संबंधित गांवों के खेतों में पहुुंच गए। देर रात तक टिड्डी दल से बचाव व इसके खात्मे का ऑपरेशन चलता रहा। उपायुक्त 6-7 घंटे खेतों में रहे और टीमों को दिशा-निर्देश देते रहे। इस ऑपरेशन में टिड्डी दल के 70 प्रतिशत टिड्डियों को खत्म कर दिया गया। उपायुक्त ने बताया कि इस कार्य के लिए 10 टीमें बनाई गई हैं। इसके अलावा 50 ट्रेक्टर स्पे्र पंप व 12 फायर बिग्रेड़ की गाड़िय़ां हैं, इनमें दो गाड़ी साथ के जिला फतेहाबाद की है। उन्होंने बताया कि टिड्डी दल के रविवार को राजस्थान की ओर रूख करते हुए दिखाई दिया है, लेकिन प्रशासन अभी भी अलर्ट मोड पर है। जहां कहीं भी टिड्डियां दिखाई दे रही हैं, उन्हें खत्म किया जा रहा है।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।