एलआईसी: ‘जिंदगी के साथ भी, जिंदगी के बाद भी’

0
LIC

भारत की पहली जीवन बीमा कम्पनी का नाम ओरियंटल लाइफ इंश्योरेंस था। ‘जिंदगी के साथ भी, जिंदगी के बाद भी’ की असरदार टैगलाइन के साथ देश के लाखों लोगों को बीमा की सेवाएं देने वाले भारतीय जीवन बीमा निगम की स्थापना 64 साल पहले एक सितंबर के दिन ही की गई थी। भारतीय जीवन बीमा निगम भारत की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी है और देश की सबसे बड़ी निवेशक कंपनी भी है। इसका मुख्यालय भारत की वित्तीय राजधानी मुंबई में है। इसके लगभग 2048 कार्यालय देश के कई शहरों में स्थित हैं और इसके 10 लाख से ज्यादा एजेंट भारत भर में फैले हैं। भारतीय जीवन बीमा निगम के वर्तमान चेयरमैन वी के शर्मा और प्रबंध निदेशक हेमंत भार्गव हैं। यह भारत की सबसे बड़ी, सबसे पुरानी और सबसे ज्यादा फायदा देने वाली इंश्योरेंस कम्पनी है।

साल 1959 में एलआईसी की बिल्डिंग देश की सबसे ऊँची बिल्डिंग्स में से एक थी। इसका ध्येय वाक्य योगक्षेमं वहाम्यहम गीता से लिया गया है जिसका अर्थ होता है कि आपका कल्याण ही हमारी जिम्मेदारी है। फिल्मों में आने से पहले हमारे फिल्मी सितारों अभिषेक बच्चन और अमरीश पुरी एलआईसी एजेंट थे। भारतीय जीवन बीमा निगम वैश्विक रूप से फिजी, लंदन, श्रीलंका, नेपाल, बहरीन और सऊदी अरब में भी कार्यरत है। इसके स्लोगन जिंदगी के साथ भी, जिंदगी के बाद भी को तो सभी बहुत अच्छी तरह से पहचानते हैं। अगर बिजनस सेंस की बात करें तो, एलआईसी एक मुनाफा कमाने वाली कंपनी है।

अपनी बेजोड़ प्रतिष्ठा और शाख के चलते कंपनी अधिकतम प्रीमियम वसूल सकती है। इसी वजह से एलआईसी का टर्म प्लान अन्य निजी कंपनीयों से महंगा है। एलआईसी संस्था कमाए हुए प्रीमियम का बड़ा हिस्सा सरकारी प्रोजेक्ट्स और बॉन्ड में निवेश करती है। इसके अलावा कुछ रकम शेयर मार्केट में भी निवेश की जाती है। इस निवेश योजना से एलआईसी लाभ कमाती है। कुल आय में से 95% कमाई का हिस्सा बोनस तथा वफादारी के रूप में पालिसी धारक को दे दिया जाता है। इनकम का शेष 5% हिस्सा भारत सरकार को जाता है।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।