Breaking News
   प्रधानमंत्री मोदी ने शरद पवार को दी जन्मदिन की बधाई|    नागरिकता बिल पर बवाल के बीच आज अमित शाह से मिलने दिल्ली आएंगे मेघालय के मुख्यमंत्री |   नागरिकता बिल के खिलाफ ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन भी SC में दाखिल करेगा याचिका |   झारखंड चुनाव: तीसरे चरण में सुबह 9 बजे तक 12.89% मतदान।   असम: नागरिकता बिल के विरोध में बवाल, विस्तारा ने रद्द की कई उड़ानें |
Breaking News

पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें स्थिर रखना संभव नहीं: निर्मला सीतारमण

Nirmala Sitharaman

बीजद सांसद पिनाकी मिश्रा ने पीएमसी बैंक में हुए वित्तीय घोटाले और इसमें जमाकर्ताओं के धन के मसले पर कहा
कि हजारों खाताधारकों के खून पसीने की गाढ़ी कमाई बैंक में फंसी हुई है

पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाने की कोई योजना नहीं (Nirmala Sitharaman)

नई दिल्ली (सच कहूँ न्यूज)। केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि देश में पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतें फिलहाल एक दर पर रखना फिलहाल संभव नहीं है क्योंकि इनकी कीमतें वैश्विक स्तर से जुड़ी हैं। श्रीमती सीतारमण ने सोमवार को लोकसभा में मेश विधूड़ी के इस सवाल पर कि जब रूस और अमेरिका में पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतें स्थिर रखी जा सकती है तो देश में यह क्यों संभव नहीं है, का जवाब देते हुए कहा कि विश्व में कहीं भी पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतें स्थिर नहीं है और यह वैश्विक स्तर पर मांग और आपूर्ति से संबद्ध है। छोटे किसानों को डीजल पर छूट अथवा सब्सिडी दिए जाने के एक सवाल पर उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में जो भी सुझाव आएंगे उन पर गौर किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाने की कोई योजना नहीं है।

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में देश के विभिन्न राज्यों में एकरूपता की कमी : दयानिधि

-द्रमुक सांसद दयानिधि मारन ने पेट्रोलियम पदार्थों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में देश के विभिन्न राज्यों में एकरूपता की कमी है और इन पर एक समान कर लगाया जाना चाहिए। बीजद सांसद पिनाकी मिश्रा ने पीएमसी बैंक में हुए वित्तीय घोटाले और इसमें जमाकर्ताओं के धन के मसले पर कहा

  •  हजारों खाताधारकों के खून पसीने की गाढ़ी कमाई बैंक में फंसी हुई है
  • और सरकार को इस दिशा में कोई कदम उठाना चाहिए।
  • श्रीमती सीतारमन ने कहा कि सरकार बैंक के घटनाक्रम से पूरी तरह वाकिफ है
  • और छोटे जमाकर्ताओं जिनकी संख्या लगभग 78 प्रतिशत है
  • उन्हें रिजर्व बैंक के दिशानिर्देश पूरी राशि निकासी की अनुमति दी गई है।
  • इसके अलावा अगर किसी खाताधारक को कोई कोई गंभीर बीमारी है
  • या परिवार में कोई बीमार है, अथवा परिवार में शादी है या शिक्षा के लिए वह एक लाख रूपए तक की राशि निकासी कर सकता है।

 

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करे।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top