टमाटर की फसल में बीमारी का किया निरीक्षण

0
Tomato Crop

Tomato Crop | सुपरवाइजर द्वारा टमाटर की फसल का निरीक्षण

यमुनानगर (सच कहूँ न्यूज)। उपमंडल के गांव नाचरोन, रादौर व रादौरी में जिला उद्यान अधिकारी रमेश पाल सैनी अपनी टीम के साथ दौरा किया। जिसमें डॉ. आर.एस. टाया राज्य बागवानी सलाहकार व अंकित कुमार ब्लॉक सुपरवाइजर द्वारा टमाटर की फसल का निरीक्षण किया गया। उन्होंने पाया गया कि पछेती झुलसा रोग का प्रकोप गांव नाचरौन के आसपास के खेतों में 1057 वैरायटी में देखने को मिला। इसके साथ लगती दूसरी वैरायटी में भी इसके लक्षण पाए गए। अन्य स्थानों पर करीब फसल ठीक खड़ी है। उन्होंने बताया कि यह बीमारी मार्च माह में वर्षा के कारण नमी बढ़ने के कारण फैली हैं, लेकिन अप्रैल माह में गर्मी पड़ने से नमी कम होने पर स्वयं समाप्त हो जाएगी।

निश्चित मात्रा में ही दवाई डालें

उन्होंने नाचरौन गांव के आसपास के लगभग 40 किसानों लाभ सिंह, साधु राम, हरी राम, बूटा सिंह, रिंकू, राजवीर, सतपाल, पवन, हरदीप, प्रदीप, जसवंतव विक्की आदि से संपर्क किया गया। और उनके खेत का मौका मुआयना किया गया। जिन किसानों के यहां यह बीमारी नजर आई। उनको इसकी रोकथाम के लिए मौके पर दवाई वगैरह बता दी गई। वहीं किसानों सलाह दी गई कि वह कॉपर आॅक्सिक्लोराइड फफुंदीनाशक दवाई के साथ दूसरी दवाई मिलाकर ना डालें। अत्याधिक मात्रा में दवाइयों का सपरे भी न करें। बताई गई निश्चित मात्रा में ही दवाई डालें।

टमाटर की खड़ी फसल में अत्याधिक पानी ना लगाएं। इसके अलावा कुछ खेतों में टमाटर की फसल में जड़ गलन रोग भी देखने को मिला है, जिसकी रोकथाम के लिए किसानों को फफुंदीनाशक दवाई बायोस्टिंन 2 ग्राम प्रति लीटर के हिसाब से जड़ों में डालने वाले बताया गया। कोविड-19 की स्थिति को देखते हुए किसानों को फोन से भी जानकारी ले सकेते हैं।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।