Breaking News

विष्णु को एसडीपी देकर सेवादार इन्द्रजीत बने मददगार

Indrajeet by giving SDP to Vishnu

जज्बा: संदेश मिलते ही सब काम छोड़कर कोटा से जयपुर पहुंचा

संदेश मिलते ही दौड़ पड़ता है मदद के लिए सेवादार इन्द्रजीत

कोटा, सच कहूँ न्यूज। डेरा सच्चा सौदा की शाह सतनामजी ग्रीन एस वेलफेयर फोर्स विंग के सेवादार प्रेमी इन्द्रजीत सिंह इन्सां ने मोबाइल पर संदेश मिलते ही सवाई मानसिंह चिकित्सालय जयपुर के बीएमटी वार्ड में एनीमिया रोग से पीड़ित निवासी गोधा जिला अलवर के विष्णु सिंह आत्मज राज सिंह को एसडीपी देकर उपचार में सहयोग किया। इन्द्रजीत को जैसे ही दूरभाष पर सूचना मिली कि सवाई मानसिंह चिकित्सालय में एनीमिया रोग से पीडित विष्णु को एसडीपी की आवश्यकता है, सब काम छोड़कर तुरन्त जयपुर रवाना हो गये और रोगी को एसडीपी देकर उपचार में मददगार बन गये।

उल्लेखनीय है कि सेवादार इन्द्रजीत सिंह ने हाल ही में 10 मई 2019 को भी 4 वर्षीय गौरांश निवाासी केशोराय पाटन को एसडीपी दिया था। सेवादार राजेन्द्र सिंह हाडा ने बताया कि प्रेमी इन्द्रजीत सिंह ने 19 अक्टूबर,18 को छबड़ा निवासी रमेशचंद को एसडीपी दिया, उसके बाद 20 नवम्बर,18 को भारत विकास परिषद में भर्ती 74 वर्षीय रामजानकी बाई को एसडीपी दिया, 4 अगस्त 2018 को वेस्ट बंगाल का रहने वाला 71 वर्षीय बादल जो बीमारी की हालत में परिजनों से बिछुड़ गया था को कोटा के महाराव भीमसिंह चिकित्सालय परिसर से संभाला और उपचार कराकर, नहलाया

और कटिंग-सेविंग कर कपड़े बदलाकर साथ रखा और 7 अगस्त को परिजनों का पता मालुम कर 22 गोदाम स्थित कच्ची बस्ती जयपुर में घर तक पहुंचाया तथा शुक्रवार 8 मार्च 2019 को केके पारीक चिकित्सालय में भर्ती रामगंज मंडी की राजस्थान आयल मिल कॉलोनी निवासी 26 वर्षीय पारूल माहेश्वरी को तथा शुक्रवार 10 मई को, 2019 को 4 वर्षीय गौरांश निवासी के पाटन एवं 20 मई को ग्राम गोधा जिला अलवर निवासी को एसडीपी देकर उपचार में सहयोग किया।

डेरा सच्चा सौदा के पूज्य गुरूजी द्वारा चलाये जा रहे 134 मानवता भलाई के कार्यों में बढ़ चढ़कर कार्य करने के लिए प्रेमी इन्द्रजीत सिंह इन्सां हमेशा तत्पर रहते हैं व दूसरों के लिए मिसाल बनते जा रहे हैं। प्रेमी इन्द्रजीत सिंह का कहना है कि मानवता भलाई के कार्य करने से उन्हें खुशी मिलती है। विष्णु के परिजनों को जब पता लगा कि रक्तदाता डेरा सच्चा सौदा के सेवादार हैं तो उन्होंने कहा कि धन्य हैं ऐसे लोग जो अपने गुरूजी के पावन वचनों पर चलते हुए इस कलियुग के समय में भी नि:स्वार्थ भाव मानवता भलाई के कार्यों में लगे हुए हैं।

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top