राजनाथ सिंह ने बालाकोट हवाई हमले की पहली वर्षगांठ पर वायुसेना को किया सलाम

0
Rajnath Singh

26 फरवरी 2019 को भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में किया था एयर स्ट्राइक (Balakot Air Strikes)

नई दिल्ली (एजेंसी)। पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा सूबे में बालाकोट कैम्प बीते साल 26 फरवरी तड़के भारतीय वायुसेना के एयरस्ट्राइक में तबाह हुआ था। पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर मिराज लड़ाकू विमानों से हमला किया था। इस हमले में कई आतंकी मारे गए थे और जैश का अड्डे को भारी नुकसान पहुंचा था।

आतंकवाद का मुकाबला करने के भारत के तरीकों में बदलाव लाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बालाकोट हवाई हमले की पहली वर्षगांठ पर बुधवार को वायुसेना की बहादुरी को सलाम किया और आतंकवाद का मुकाबला करने के भारत के तरीकों में बदलाव लाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद किया। सिंह ने ट्वीट किया, ‘भारत आज बालाकोट हवाई हमले की पहली वर्षगांठ मना रहा है।

  • वायुसेना के साहसी योद्धाओं का यह एक सफल आतंकवाद-रोधी अभियान था।
  •  भारत ने आतंकवाद के खिलाफ अपनी मजबूत इच्छाशक्ति को स्पष्ट रूप से साबित किया है।
  • उन्होंने कहा, ‘मैं वायुसेना को बालाकोट हवाई हमले के दौरान के असाधारण बहादुरी और साहस के लिए सलाम करता हूं।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली हमारी सरकार ने पहले की सरकारों से अलग दृष्टिकोण अपनाया है।
  • अब हम आतंकवाद के खिलाफ भारत की रक्षा के लिए सीमा पार करने में संकोच नहीं करते हैं।
  • रक्षा मंत्री ने कहा, ‘मैं आतंकवाद के खिलाफ भारत के दृष्टिकोण और आतंकवाद का मुकाबला करने के हमारे तरीकों में बदलाव लाने के लिए मोदी को धन्यवाद देता हूं।
  • यह निश्चित रूप से एक नया और विश्वास से भरा भारत है।
  • गौरतलब है कि वायुसेना ने पिछले साल आज ही के दिन पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर आतंकवादी ठिकानों को ध्वस्त किया था।

खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में है जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी कैम्प

एयरस्ट्राइक का एक साल होने पर एयर चीफ आरके भदौरिया ने कहा, कि बालाकोट एयर स्ट्राइक ने पाकिस्तान को यह साफ-साफ संदेश था कि उसकी जमीन से आतंकी गतिविधियों को भारत अब बर्दाश्त नहीं करेगा। वायुसेना ने 40 साल में अपना सबसे महत्वपूर्ण अभियान को अंजाम दिया।

हमारे लड़ाकू विमानों ने पाकिस्तान के अंदर जाकर आतंकी ठिकानों को निशाना बनाया और पाकिस्तान एयर डिफेंस के अलर्ट के बाद भी बिना किसी नुकसान के वापस भारत आ गए। (Balakot Air Strikes) इस स्ट्राइक से भारत ने पाकिस्तान को ठोस संदेश दिया कि अगर पड़ोसी देश आगे कोई ऐसी हरकत करेगा तो उसका अंजाम क्या हो सकता है। जहां तक बालाकोट में फिर से आतंकी ठिकानों के शुरू होने की बात है, तो हम उनकी हरकतों पर नजर रखे हुए हैं और पाकिस्तान को जवाब देने के लिए रणनीति तैयार है।

जानें आज कैसे हालात है बालाकोट कैंप के

  • ये कैम्प खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के जब्बा में एक एकड़ जमीन पर फैला हुआ है।
  • यहां मदरसा भी चालाया जाता है।
  • भारतीय वायुसेना के मिराज 2000 विमानों ने इजराइल निर्मित्त स्पाइस बमों से निसाना बनाया था।

स्ट्राइक वाली रात को जैश के अधिकतर आतंकी मौजूद थे

  • सैटेलाइट इमेजरी के निरीक्षण से ढांचे मे बदलावों के धुंधले संकेत मिलते हैं। (Balakot Air Strikes)
  • यहां कुछ निर्माण की परिधि और कैम्प की छत में मापे जा सकने वाला बदलाव देखा जा सकता है।
  • बालाकोट कामयाब आॅपरेशन था।
  •  भारतीय वायुसेना के विमानों ने अधिकतर लक्ष्यों पर सटीक निशाने लगाए।
  • पाकिस्तान ने इस जगह पर छह हफ्ते तक किसी के भी जाने पर रोक लगा कर वहां हुई तबाही को छुपाए रखा।
  • वायुसेना ने उत्तरी हिस्से में पिरामिड जैसी छत वाले ढांचे को मुजाहिद हॉस्टल के तौर पर चिह्नित किया गया था।
  • इस हॉल में स्ट्राइक वाली रात को जैश के अधिकतर आतंकी मौजूद थे।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।