Breaking News
   सिरसा में प्रशासन के आदेश के बाद पानीपत फ़िल्म का प्रसारण रोका गया |   राजनाथ सिंह बोले- धर्म के आधार पर भेदभाव ना हो, इस बात से सहमत हूं |   त्रिपुराः अगरतला में नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में प्रदर्शन जारी |   मुस्लिम देशों में भारतीयों का उत्पीड़न हो रहा है: रक्षामंत्री राजनाथ सिंह |   करनाल में बच्चों से भरी बस पलटी, 24 सीटर बस में थे 80 बच्चे, ग्रामीणों का आरोप-नशे में था ड्राइवर |   कर्नाटक उपचुनाव: भाजपा ने 15 में से 12 सीटों पर दर्ज की जीत |   नागरिकता बिल: पहली जोर आजमाइश में मोदी सरकार पास, लोकसभा में 293 Vs 82 रहा स्कोर|   फ़िल्म पानीपत पर हो रहे हंगामे पर बोले गृह मंत्री अनिल विज: अगर किसी एतिहासिक विषय पर फ़िल्मकार फ़िल्म बनाता है तो उसे पूरा रिसर्च करना चाहिए।   हरियाणा परिवहन विभाग के बेड़े में शामिल होगी नई बसें, सभी में लगेेंगे सीसीटीवी कैमरे: परिवहन मंत्री मुलचंद शर्मा |    हनीप्रीत इन्सां ने पूज्य गुरु जी से सुनारिया जेल में की मुलाकात |
Breaking News

डेंगू के बढ़ते मरीजों के कारण आसमान पर पहुंचे पपीते के दाम

40 रुपए प्रतिकिलो की दर से बिकने वाला पपीता वर्तमान में 100 रुपए पर जा पहुंचा

जोधपुर (एजेंसी)। डेंगू के डंक से आहत मारवाड़ के लोगों को राहत पहुंचाने में मददगार साबित हो रहा पपीता अब आसमान पर जा चढ़ा है  (Increase Papaya Rates)। अमूमन 30 से 40 रुपए प्रतिकिलो की दर से बाजार में बिकने वाला पपीता वर्तमान में 100 रुपए पर जा पहुंचा है। डेंगू रोगी की प्लेटलेट्स बढ़ाने में सहायक पपीता आमजन की पहुंच से दूर होता जा रहा है। पपीता के दाम बढऩे का कारण इसकी आवक कम होना व डेंगू बीमारी बताई जा रही है।

80 से 100 रुपए किलो तक बिक रहा है

  •  जोधपुर में प्रमुखतया जालोर व जोधपुर जिले के रामपुरा, तिंवरी व मथानिया क्षेत्रों से देशी पपीता आता है।
  • इन क्षेत्रों से पपीता की आवक बंद हो गई है।
  • गत बारिश की सीजन में अधिकांश पपीता की फसल खराब हो गई।
  • इसका प्रभाव गुजरात से आने वाली पपीता की फसल पर पड़ा और वर्तमान में आ रही फसल की आवक कम हो गई।
  • बाजार में कम आवक व ज्यादा खपत के कारण 30 से 40 रुपए बिकने वाला पपीता इन दिनों 80 से 100 रुपए किलो तक बिक रहा है।

तीन गुना कम हुई आवक |Increase Papaya Rates

बारिश से नष्ट हुई फसल का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वर्तमान में पपीता की आवक तीन गुना कम हो गई है। फल विक्रेताओं के अनुसार जहां 2-3 माह पूर्व पपीता की प्रतिदिन आवक करीब 60 टन हुआ करता था, वहीं अब पपीता एक दिन छोडकऱ आ रहा है। वर्तमान में पपीता करीब 20 टन आ रहा है।

डेंगू उपचार में सहायक| Increase Papaya Rates

  • पाचन के लिए जिस फल का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है वह पपीता है।
  • डेंगू बीमारी जो कि एक प्रकोप के रूप में मारवाड़ में फैल रही है, उसमें भी इस फल का बहुतायत में उपयोग किया जाता है।
  • लेकिन पिछले करीब एक माह से इस फल के दाम आसमान छू रहे हैं।
  • डेंगू बीमारी के रोगियों को पपीता, पपीता के पत्तों का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

बारिश से पपीता उत्पादन क्षेत्रों मे फसल खराब हो गई है। आवक कम होने से पपीता के भाव तेजी पर है। दीपावली के बाद नई आवक से भावों में कमी आने की उम्मीद है।
मो. इकबाल, फल विक्रेता

Hindi News से जुडे अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करे।

लोकप्रिय न्यूज़

To Top