हाथरस दुराचार केस में पुलिस ने क्यों किया आधी रात को पीड़ित का अंतिम संस्कार?

0
Hathras Rape Case

एसआईटी करेगी मामले की जांच

  • प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री से की बात

लखनऊ (सच कहूँ न्यूज)। उत्तर प्रदेश के हाथरस में दरिंदगी की शिकार दलित लड़की का पुलिस ने आधी रात को जबरदस्ती अंतिम संस्कार कर दिया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने बेटी के शव के आखिरी दर्शन भी नहीं करवाए। हालांकि प्रशासन ने इस मामले पर सफाई भी दी। उन्होंने कहा कि परिजनों की सहमति पर ही अंतिम संस्कार किया गया है। उधर इस मामले में यूपी सरकार घिरती नजर आ रही है। प्रधानमंत्री ने यूपी के मुख्यमंत्री से बात की है और कहा कि दोषियों के विरूद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभ्य समाज को झकझोर देने वाली घटना की जांच के लिये विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित करने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने बुधवार सुबह ट्वीट कर बताया कि मामले की जांच तीन सदस्यीय एसआईटी टीम करेगी। विशेष जांच दल का नेतृत्व गृह सचिव भगवान स्वरूप करेंगे जबकि दो अन्य सदस्यों में पुलिस उपमहानिरीक्षक चंद्र प्रकाश और पीएसी कमांडेंट आगरा पूनम शामिल हैं।

दोषी कतई नहीं बचेंगे: योगी

योगी ने ट्वीट किया, ‘हाथरस में बालिका के साथ घटित दुर्भाग्यपूर्ण घटना के दोषी कतई नहीं बचेंगे। प्रकरण की जांच हेतु विशेष जांच दल का गठन किया गया है। यह दल आगामी सात दिवस में अपनी रिपोर्ट देगा। त्वरित न्याय सुनिश्चित करने हेतु इस प्रकरण का मुकदमा फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा। उन्होने कहा ‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाथरस की घटना पर बात की है और कहा है कि दोषियों के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाए।

यह भी पढ़े – हाथरस दुराचार केस में राजनीति शुरू, राहुल गांधी ने कहा इस्तीफा दें योगी

एक सप्ताह के भीतर एसआईटी अपनी रिपोर्ट प्रेषित करेगी

एसआईटी एक सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट प्रेषित करेगी। सरकार मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में कराने के आदेश पहले ही कर चुकी है। इसके अलावा पीड़िता के परिजनो को दस लाख रुपए का मुआवजा दिया गया है। मामले में वांछित सभी चार आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

क्या है मामला

14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा गांव में पीड़िता के साथ दुराचार की घटना को अंजाम दिया था। घटना के 9 दिन बाद लड़की होश में आई तो इशारों में अपना दर्द बयान किया। पीड़िता को पहले अलीगढ़ में इलाज के लिए भेजा गया और वहां हालात बिगड़ने पर उन्हें सफदरजंग अस्पताल भेजा गया, लेकिन अफसोस, यहां भी उस पीड़िता को बचाया नहीं जा सका और कल सुबह उस लड़की ने दम तोड़ दिया। देश भर में इस मामले पर कल रात से ही प्रदर्शन हो रहे हैं।

 

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।