कोरोना के दौर में घर खाली कराना अनैतिक कार्य, दर्ज होगी एफआईआर

0

मेडिकल स्टाफ, होम क्वारंटाइन व मजदूरों से घर खाली कराया तो खैर नहीं

शिकायत के लिए नजदीकी पुलिस थाने में करें संपर्क

संजय मेहरा/सच कहूँ
गुरुग्राम। कोरोना वायरस के दौर में किराएदारों से मकान खाली कराना एक तरह से अनैतिक नाजायज कार्य है। इसे किसी भी सूरत में जायज नहीं ठहराया जा सकता। अगर किसी भी मकान मालिक के खिलाफ इस तरह की शिकायत किराएदार की तरफ से दी जाती है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज करके कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
बता दें कि गुरुग्राम में किराए का काफी बड़ा काम है। इसे कारोबार भी कहा जा सकता है।

वैसे तो यह कॉमर्शियल एक्टिविटी में आता है। फिर भी यहां लाखों लोग ऐसे हैं, जो कि किराए से करोड़पति बन गए हैं, लेकिन सरकारी खजाने में उनका कोई योगदान नहीं है। अब कोरोना वायरस बीमारी के चलते बहुत से मकान मालिकों ने अनैतिक कार्य शुरू कर दिए हैं। जिनके मकानों में डॉक्टर्स, नर्सेज, मजदूर रहते हैं, उनसे मकान खाली करने का दबाव बनाया जा रहा है। साथ ही बहुत से किराएदारों ने खुद को घरों में क्वारंटाइन किया हुआ है, उनको भी मकान खाली करने को कहा जा रहा है। इस तरह की सूचनाएं प्रशासन के पास हेल्पलाइन पर पहुंची हैं। जिला प्रशासन ने इसे गंभीरता से लिया है।

अमानवीयता करने वालों को नहीं बख्शा जाएगा: डीसी

जिला उपायुक्त अमित खत्री का कहना है कि जो लोग इस विकट परिस्थिति में अपना अमानवीय चेहरा दिखा रहे हैं, उन्हें किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। अच्छा है कि वे अपने किसी भी स्तर के किराएदार को परेशान ना करें। अगर फिर भी वे बाज नहीं आते हैं तो उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की जाएगी। उन्होंने ऐसे पीड़ित किराएदारों से कहा है कि वे अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में जाकर शिकायत करें, तुरंत कार्रवाई होगी।

अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें Facebook और Twitter पर फॉलो करें।